तुम्ही श्याम सुंदर नही दूसरा है

तुम्ही श्याम सुंदर नही दूसरा है
नही और कोई कही दूसरा है
तुम्ही श्याम सुंदर नही दूसरा है।।

यु ही हम नही है तुम्हारे दीवाने,
देखे बिना दिल हमारा न माने
तुम ही तुम हो मेरे नही दूसरा है
तुम्ही श्याम सुंदर नही दूसरा है।।

ये काली लटे और नैना कटीले,
तुम्हारे अधर है कमल से रंगीले
तुम संग ही कुछ कही दूसरा है
तुम्ही श्याम सुंदर नही दूसरा है।।

तुम्ही देख ले जो बुलाएगा कैसा
तुम्ही छोड़ कर तो जाए गा कैसा
नही रास्ता अब नही दूसरा है
तुम्ही श्याम सुंदर नही दूसरा है।।

Leave a Reply