तू अपने हिसे की नेकिया वक़्त के रहते करले

तू अपने हिसे की नेकिया वक़्त के रहते करले,
वक़्त कही ये रूठ ना जाये कुछ तो वक़्त से डरले,
तू अपने हिसे की नेकिया वक़्त के रहते कर ले।।

वक़्त जो गया हाथ से निकल वक़्त से मांगेगा तू कल,
वक़्त नहीं देने वाला पल सोच इस मुश्किल का कोई हल,
पश्तावे का वक़्त ना आये ध्यान वक़्त का डरले,
तू अपने हिसे की नेकिया वक़्त के रहते करले।।

वक़्त नहीं कभी किसी का सगा वक़्त से करना न तू दगा,
वक़्त जब रंग बदलने लगा तू रह जाएगा ठगे का ठगा,
बस थोड़ी हिमत कर के वक़्त को करे तो वश में करले,
तू अपने हिसे की नेकिया वक़्त के रहते कर ले।।

वक़्त जब मिले नेकी कर ढालो वक़्त हो बुरा तो हस कर टालो,
वक़्त अगर बने तो अपना बनालो,
वक़्त से जैसी निभे निभालो,
अरे कहते है वक़्त की मार बुरी बस वक़्त की तू कर कदरले,
तू अपने हिसे की नेकिया वक़्त के रहते करले।।

Apane Hise Ki Nekiya Waqt Ke Rahte Karle
Waqt Kahi Ye Rooth Na Ho Kuchh To Waqt Se Darle
Tu Apane Hise Ki Nekiya Waqt Ke Rahana Karle

Waqt Jo Gaya Haath Se Nikal
Waqt Se Maangage Tu Kal

Waqt Nahin Dene Wala Pal
Soch Iss Mushkil Ka Koi Hal

Pachhatave Ka Waqt Naa Aaye
Dhyaan Waqt Ka Darle

Aap Apane Hise Ki Nekiya
Waqt Ke Rehte Karle

Waqt Nahin Kabhi Kisi Ka Saga
Waqt Se Karana Na Tu Daga

Waqt Jab Rang Badalane Laga
Tu Rah Jaega Thage Ka Thaga

Bas Thoda Himmat Kar Ke Waqt Ko
Kare To Vash Mein Karale

Tu Apane Hise Ki Nekiya
Waqt Ke Rahana Kar Le

Waqt Jab Mile Neki Kar Daalo
Waqt Ho Bura To Has Kar Taalo

Waqt Agar Ban Gaya To Apana Bana Lo
Waqt Se Jaisi Nibhe Nibhalo

Are Kahata Hai Waqt Ki Maar Buri
Bas Waqt Ki Too Kar Kadar Le

Tu Apane Hise Ki Nekiya
Waqt Ke Rehte Karle

Wat Ko Samajh Munasib Hoga
Waqt Tere Mutabik Hoga

Fir Wahi Hoga Jo Vajib Hoga
Jo Sochega Tu Hasil Hoga

Mata Purna Giri Ke Dar Ki
Aake Hazari Bharle

Tu Apane Hise Ki Nekiya
Waqt Ke Rehte Karle

This Post Has One Comment

Leave a Reply