तू ही दाता विश्व विधाता तेरी दुनिया सारी

तू ही दाता विश्व विधाता
तेरी दुनिया सारी
तेरी दुनिया सारी

कैसा यह इंसान बनाया
शान तेरी है न्यारी
शान तेरी है न्यारी

ऊँचे पर्वत गहरे सागर
सूरज-चाँद सितारे

बादल आएँ मेह बरसायें
कुदरत की बलिहारी कुदरत की बलिहारी

तू ही दाता विश्व विधाता

तेरी दुनिया सारी
तेरी दुनिया सारी

हम दो-ओ-सन्ना
हम मिल गाएँ
तेरा शुक्र करें

बुलबुल गाये झूमे डाली
नाचे धरती सारी
नाचे धरती सारी

तू ही दाता विश्व विधाता
तेरी दुनिया सारी
तेरी दुनिया सारी

हाथों को जोडे दिल को खोलें
आए हैं शरण तेरी पापों को प्यरे
प्रभु क्षमा करे
जान मेरी ये पुकारे
जान मेरी ये पुकारे


तू ही दाता विश्व विधाता
तेरी दुनिया सारी
तेरी दुनिया सारी

Leave a Reply