तृष्णा ना गयी मेरे मन की माया ने हर जीव लुभाया

तृष्णा ना गयी मेरे मन की
माया ने हर जीव लुभाया।।

हर बारी भई मन
तृष्णा ना गयी मेरे मन की।।

कनक समान है जीवन तेरा
न्योचछवर चरनो में
रघुवर के न्योचछवर चरनो में।।

प्रभु नाम की लूट मची है
करले कही गुरु मन की
तृष्णा ना गयी मेरे मन की।।

पाछे जानम लिए जब मानस की
माया धारण पाया।।

स्वयं को माया धारण पाया
जीवन पथ के अंत में आके
भोगानी है तन मन की।।

तृष्णा ना गयी मेरे मन की
माया ने हर जीव लुभाया।।

हर बारी भई मन
तृष्णा ना गयी मेरे मन की।।

Trishna Naa Gayi Mere Man Ki
Maya Ne Har Jeev Lubhaya

Har Bhari Bhayee Man Ki
Trishna Naa Gayi Mere Man Ki

Trishna Naa Gayi Mere Man Ki
Maya Ne Har Jeev Lubhaya

Har Bhari Bhayee Man Ki
Trishna Naa Gayi Mere Man Ki

Kanak Saman Hai Jeevan Hai Tera
Nyochhavar Charano Mein
Raghuvar Ke Nyochhavar Charano Mein

Prabhu Naam Ki Loot Machi Hai
Karle Kahi Guru Manki
Trishna Naa Gayi Mere Man Ki

Paachhe Janam Liye Jab Manas Ki
Maya Dharan Paya

Swam Ko Maya Dharan Paya
Jeevan Path Ke Ant Mein Aake
Bhogani Hai Tan Man Ki

Trishna Naa Gayi Mere Man Ki
Maya Ne Har Jeev Lubhaya

Har Bhari Bhayee Man Ki
Trishna Naa Gayi Mere Man Ki

This Post Has One Comment

  1. Pingback: bhajans ke best lyrics fonts – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply