तेनु चिंतपूर्णी ता केहंदे तू चिंता सब दे हरदी ऐ

तेनु चिंतपूर्णी ता केहंदे तू चिंता सब दे हरदी ऐ,
खुश हो जावे जो एहदे ना चिंता रेह्न्दी घर दी ऐ।।

भरे खजाने विचो मैया भर भर मुठिया वंडदी ऐ,
टूटीआ जो तकदीरा माये पल विच आपे गंडदी ऐ
लड़ लग जावे को एहदे ना चिंता रेह्न्दी घर दी ऐ
तेनु चिंतपूर्णी ता केहंदे तू चिंता सब दे हरदी ऐ।।

तांघ तेरे दर्शन दी माये भज भज पोड़ी चडीऐ
अड़ के झोली बनके मंगतेलाइना दे विच खड़ीऐ
किसे नु वी ना मोड़ेखाली सब दी झोली भरदी ऐ
तेनु चिंतपूर्णी ता केहंदे तू चिंता सब दे हरदी ऐ।।

भवन तेरे दे आगे खद के लख करदे अरदासा
अपने लाल संजीव दिया वि करदे पुरिया आसा
ओहनू वि तू तार दे माये देखि दुनिया तरदी ऐ
तेनु चिंतपूर्णी ता केहंदे तू चिंता सब दे हरदी ऐ।।

Leave a Reply