तेरा शुक्र करां महारानी तेरा शुक्र करां मैं दाती

शुक्र करा दिन रात मैं तेरा
पल पल तेरा शुक्र करा
अपने सुख वी अपने दुःख वी
सब कुछ तेरी नजर करा
अंग संग रह के तू हर वेले
मान गरीबा नू दित्ता
मेरे मुंडाया तू भी दस दित्ता
साहिल क्यों मैं फ़िक्र करा।।

तेरा शुक्र करां महारानी, तेरा शुक्र करां मैं दाती
मैनू चरणी लगाया ए, मैं जद वी आया दर ते
तैथों सब कुछ पाया ए…. तेरा शुक्र करां मैं…

तेरे चरणां च आके मैया दुख सारे भूल गए
मेरे बंद नसिबां वाले मां ताले खुल गए
हुन फिक्र ना चिंता कोई मेरा दिल हर्षाया ए
मै जद वी आया दर ते…..

तेरे वरगा ना कोई जग विच मैं दुनिया देख लई
तेरे चरणी लग तर जावाँ दर आया एस लई
हुन डर ना तूफाना दा ,मांझी तैनू बनाया ए
मैं जद वी आया दर ते….

शाम सूंदर सेवक दा कोई जग विच होर नहीं
बिन मावां दे बच्चेयां दा किद्रे वी ठौर नहीं
तेरा शुकराना ओ पी ने सचे दिल नाल गया ए
मैं जद वी आया दर ते….

Leave a Reply