तेरा ही वजूद है ऐ मेरे मुर्शिद

तेरा ही वजूद है ऐ मेरे मुर्शिद
बिना तेरे मेरा नहीं है गुजारा,

तेरा ही कर्म है ये तेरी ही इनायत
क्या से क्या बनाया है तेरी ही रेहमत ,
हम भूलो को राह लगाया
बिना तेरे मेरा नहीं है गुजारा,

भक्तो के खातिर ये रचन रचाई,
ज्योत इलाही मेरी मुर्शिद की आई.
भक्ति का पवन दर ये बनाया,
बिना तेरे मेरा नहीं है गुजारा,

सागर से गेहरा हिरदये ये तेरा,
सूरज से बढ़कर जलवा ये तेरा,
खुदा तारने खुद ही जहांन में है आया,
बिना तेरे मेरा नहीं है गुजारा

Tera Hi Vajood Hai Ae Mere Murshid
Bina Tere Mera Nahin Hai Gujara

Tera Hi Karm Hai Ye Teri Hi Inayat
Kya Se Kya Banaya Hai Teri Hi Rehamat
Ham Bhoolo Ko Rah Lagaya
Bina Tere Mera Nahin Hai Gujara

Bhakto Ke Khatir Ye Rachan Rachai
Jyot Ilahi Meri Murshid Ki Aai
Bhakti Ka Pavan Dar Ye Banaya
Bina Tere Mera Nahin Hai Gujara

Sagar Se Gehara Hiradaye Ye Tera
Sooraj Se Badhakar Jalava Ye Tera
Khuda Tarane Khud Hi Jahann Mein Hai Aya
Bina Tere Mera Nahin Hai Gujara

This Post Has One Comment

Leave a Reply