तेरी मैं मलंग हो गई

मैया घुंगरू पैरा दे विच पा के
तेरी मैं मलंग हो गई
आपा तेरे नाल लाई सारी दुनिया भुलाई
होश अपनी नु बेह गई गवा के
तेरी मैं मलंग हो गई
मैया घुंगरू पैरा दे विच पा के
तेरी मैं मलंग हो गई………

चमड़ी उतार मेरी जुती बनवा लवी,
मन खुश हो प्रभु पैरा च सजा लवी
तेरा करना दीदार चाहे रख चाहे मार
पर मोड़ी न दरा तो टरका के
तेरी मैं मलंग हो गई……..

तेरी हां मैं तेरी जिथे मर्जी लिखवा लवी
जींद भावे सुई वाले नके चो लंघा देवी
तेरा करना दीदार चाहे रख चाहे मार
पर मोड़ी ना दरा तो टरका के
तेरी मैं मलंग हो गई………

Leave a Reply