तेरी यादा विच जींद हो लचार रुल गई

तेरी यादा विच जींद हो लचार रुल गई,
काहनू बचेया दी लेनी माँ सार भूल गई,
दे ममता दी छा अमडीये फड लै साडी बाह।।

ऐसे जग ने माँ दिल उते चोटा दितीया ,
जाके किस नु सुनाइये आप बितिया,
तू भी औन दा माँ करके करार भूल गई,
काहनू बचेया दी लेनी माँ सार भूल गई,
दे ममता दी छा अमडीये फड लै साडी बाह।।

साहणु मिलिया न मोका चरना च रेहन दा
दो घडी तेरी ममता दी छा च बेहन दा,
डोरी प्यार क्यों अध् विच कार खुल गई
काहनू बचेया दी लेनी माँ सार भूल गई
दे ममता दी छा अमडीये फड लै साडी बाह।।

गल्ला दिल दिया मावा बाजो केह्डा जान दा,
मेहरा वाला पल्ला सिर ते न कोई तान दा,
तू क्यों अपना ही माये परिवार भूल गई,
काहनू बचेया दी लेनी माँ सार भूल गई,
दे ममता दी छा अमडीये फड लै साडी बाह।।

जीवे तिलक अम्बाले वाला दिता तार माँ,
साडी सुन के पुकार आजा इक वार माँ,
देना कमल नु मावा वाला प्यार भूल गई,
काहनू बचेया दी लेनी माँ सार भूल गई,
दे ममता दी छा अमडीये फड लै साडी बाह।।

This Post Has One Comment

  1. Pingback: मैं बालक नादान हूँ मैया कुछ ना मुझको आता – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply