त्रेतायुग की बात बताऊ

त्रेतायुग की बात बताऊ
गोदावरी नदी तट पर
राम लखन सीता रहते थे
पंचवटी था उनका घर
अरे देवी सीता के कहने पर
राम चले हिरना लाने
कोऊ समझ नही पावे
यह लीला केवल विधी जाने
लीला केवल विधि जाने

Lyrics of Tretayug Ki Baat Bataun 

लखन लाल पहरा देते थे
राम भटकते थे वन मे
हिरना दिखा रहा था च्चल बल
राम नाम सुमरे मन मे
अरे मृग से फिर मारीच हो गयवा
टेर लगाई हा लक्ष्मण
धीरे से श्री राम कहा
और त्यागा नीच अपवन तन
त्यागा नीच अपवन तन
मैया सीता घबराई
और बोली लक्ष्मण से वाणी
संकट मे है तुम्हारे भैया
जाने विधि ने क्या ठनी

अरे लक्ष्मण रही रही समझा रहे
तू धीरज राखो मात यहा
कच्छ ना होइए भैया को
संकट कैसा जब राम वाहा
संकट कैसा जब राम वाहा
त्रिया हट से हारे लक्ष्मण
बान से एक खींची रेखा
धनुष बान ले चले वीर बार
पर राम छवि अंतर देखा
राम छवि अंतर देखा

माता ना रेखा लांघना
मैं जा रहा रघुवर जहा
जो भी निकट आया
चीता जल जाएगी उसकी यहा
चीता जल जाएगी उसकी यहा

सुध बुध खो बैठा सिकंदर
देख रूप की ख़ान सिया
आँखे छूंढिया गयी रावण की
पर छल बल ने जगा दिया
अरे साधु भेष मे था लंका पति
सीता थी भोली भली
भिक्षा देने को हाथो मे
कंदमूल फल ले आई
कंदमूल फल ले आई

कपटी रावण बोला
मैं कैसे भिक्षा लू बँधी हुई
बाहर आकर भिक्षा दो
या मैं जाता हू रूपमयी
अरे सकूचाई सीता पहले
देवर के वचन याद आए
फिर देखा सीता ने साधु
अलख निरंजन दोहराए
अलख निरंजन दोहराए

बिन भिक्षा को लिए
कहीं सन्यासी घर से चला गया
अपयश होगा रघुकुल का
सोचा बाहर पग बढ़ा दिया

झपट कर फेंका कमंडल
थम सीता को लिया
बोली तड़प कर जानकी
रे दुष्ट आते है पिया
गरज कर रावण हंसा
धरती की छाती डोलती
विवश सीता रो रही
आ राम रघुवर बोलती
आ राम रघुवर बोलती

हाथ पकड़ कर अपने रात पर
सीता जी को बिता लिया
हाथ हांस करता लंका पति
अब लंका की ओर चला
अब लंका की ओर चला

सीता हरण हुई गावा भैया
पर या धरती नही फटी
कदम कदम पर रावण बैठा
आज हू सीता जात हरी
बिन देश शीश के कितने रावण
अब भारत मे घूमत है
तन के उजरे मन के काले
अब समाज मा रोज पूजे
अब समाज मा रोज पूजे

कितनी बार ज़रा यह रावण
पर रति भर जला नही
यह फूँके ते का होइए
जब तक ना जन्मेहि राम कहीं
जब तक ना जन्मेहि राम कहीं

Leave a Reply