दया करो हे नाथ जगत पे कैसी विपदा आई

दया करो हे नाथ जगत पे कैसी विपदा आई,
सारी दुनिया तर्स्त है जिस से जनता है गबराई,
जगत के मालिक जगत वियाता अर्ज है तुमसे करते,
देर करो न अब तुम स्वामी निकट घडी है आई
दया करो हे नाथ जगत पे कैसी विपदा आई।।

रोटी के भी लाले पड़ गे दुखी है सब नर नारी,
काम भी छूटा धाम भी छूटा कहा जाए त्रिपुरारी,
बीच भवर में डूभ रहे सब कहा नाव ठहराई,
दया करो हे नाथ जगत पे कैसी विपदा आई।।

कला कार हम किसे सुनाये अपनी मन की गाथा,
इस वेला में भी तो भगवान काम कोई न आता,
मकड़ जाल में फसे हुए सब कौन करे सुनवाई,
दया करो हे नाथ जगत पे कैसी विपदा आई।।

क्या महामारी है भगवान इस से हमे बचाओ,
बुल चूक सब छमा करो तुम फिर से खुशिया लाओ,
कान पकड़ कर नाक रगड़ ते छोड़ रहे चतुराई,
दया करो हे नाथ जगत पे कैसी विपदा आई।।

Daya Karo He Nath Jagat Par Kaisi Vipada Aai
Sari Duniya Tarsta Hai Jis Se Janata Hai Ghabrai
Jagat Ke Malik Jagat Viyata Arj Hai Tumse Karte
Der Karo Na Ab Tum Swami Vikat Ghadi Hai Aai
Daya Karo He Nath Jagat Per Kaisi Vipda Aai

Roti Ke Bhi Lale Pad Ge Dukhi Hai Sab Nar Nari
Kaam Bhi Chhuta Dhaam Bhi Chhuta Kaha Jae Tripurari
Bich Bhavar Mein Dubh Rahe Sab Kaha Nav Thahrai

Daya Karo He Nath Jagat Pe Kaisi Vipda Aai
Sari Duniya Tarsta Hai Jis Se Janata Hai Ghabrai

Kala Kar Ham Kise Sunaye Apani Man Ki Gatha
Is Bela Mein Bhi To Bhagvan Kaam Koi Na Aata
Makad Jal Mein Phase Hue Sab Kaun Kare Sunavai

Daya Karo He Nath Jagat Par Kaisi Vipda Aai
Sari Duniya Tarsta Hai Jis Se Janata Hai Ghabrai

Kya Mahamari Hai Bhagvan Is Se Hame Bachao
Bhool Chook Sab Chhama Karo Tum Phir Se Khushiya Lao
Kaan Pakad Kar Naak Ragad Te Chhod Rahe Chaturai

Daya Karo He Nath Jagat Par Kaisi Vipda Aai
Sari Duniya Tarsta Hai Jis Se Janata Hai Ghabrai

Leave a Reply