दीवाने तेरे लखा होंगे

क्यों चले गए तुम यूं सितारों की दुनिया में
दर्द छोड़ गए पीछे हजारो की दुनिया में
आज सूनी है ये गलिया गलियारे सूने है
ऐ चंचल तेरे बिना माँ के द्वारे सूने है।।

नही चंचल जे जमने ने लाल
दीवाने तेरे लखा होंगे
माँ दी भगती दी ओ सी मिसाल,
दीवाने तेरे लखा होंगे।।

राता जाग जाग नि माये जिस ने सी भेटा गईया
गम दी हनेरी एसी झूली हूँ पै गईया ने जुदाइया,
सदा कना विच गूंजे गी आवाज
दीवाने तेरे लखा होणगे ।।

मन चंचल सी जिन्दा माये सब नाल प्यार अनोखा सी
जय माता दी करदा रहंदा तेरा लाल अनोखा सी
दिल पूछदा ऐ तेनु माँ सवाल
दीवाने तेरे लखा होणगे ।।

बंद हो गईया अखा भावे ओ ध्यानु भगत कहा गया,
अमर रहे गा चंचल तेरा जोगी वाला फेरा पा गया
मन्नी रोंदा ऐ कर कर याद
दीवाने तेरे लखा होणगे ।।

Leave a Reply