दीवाने दाती दे दीवाने दाती दे

शाम सवेरे जपदे माला
करदे जगराते दाती दे
दीवाने दाती दे दीवाने दाती दे

बैठी है दरबार लगा के आंबे भोली मैया
गम दी धुप हनेरे विच माँ आंचल दी छैयां
हर दम हर पल मौजा करदे
एह बछड़े ने जग दाती दे
दीवाने दाती दे दीवाने दाती दे

लै के आसरा मैया जी दा कम शुरू ने करदे
भावे आवन लख मुसीबत कदे नही ओह डरदे
पल्ला नहियो छड दे माँ
दाभावे रुख हो जावन अंधी दे
दीवाने दाती दे दीवाने दाती दे

नाम ध्या ले माँ दा संधू सागर ने समाया
जिहने किती माँ दी पूजा ओहने सब कुछ पाया
भगत कदे परवाह नही करदे
एह दुनिया आनी जानी दे
दीवाने दाती दे दीवाने दाती दे

This Post Has One Comment

Leave a Reply