देश अपना भारत इस धरती में सबसे न्यारा

देश अपना भारत इस धरती में सबसे न्यारा,
कही कल कल नदियां पुकारे कही पर्वत करे है इशारे,
अपना पल है यहाँ फ़िज़ा में मिले लोग सभी यहाँ प्यारे,
कही कल कल नदियां पुकारे कही पर्वत करे है इशारे

कोई उर्दू कही हिंदी कोई पंजाबी कोई सिंधी,
सूंदर संस्कर्ति है यह की मिल जुल कर रहते है यहाँ सारे,
कही कल कल नदियां पुकारे कही पर्वत करे है इशारे

कश्मीर से कन्याकुमारी यात्रा अनोखी हमारी,
कर के भारत के दर्शन हुए धनाये ये भाग हमारे,
कही कल कल नदियां पुकारे कही पर्वत करे है इशारे

Desh Apna Bharat
Iss Dharti Mein Sabse Nyara

Kahe Kal Kal Nadiya Pukare
Kahe Parvat Kare Ishare

Apnapan Yaha Hai Fiza Mein
Mile Log Yaha Sabhi Pyare

Kahe Kal Kal Nadiya Pukare
Kahe Parvat Kare Ishare

Desh Apna Bharat
Iss Dharti Mein Sabse Nyara

Koi Urdu Kahe Koi Hindi
Koi Punjabi Koi Sindhi

Sundar Sankskriti Hai Yaha Ki
Mil Jul Rahte Hai Saare

Kahe Kal Kal Nadiya Pukare
Kahe Parvat Kare Ishare

Apnapan Yaha Hai Fiza Mein
Mile Log Yaha Sabhi Pyare

Kahsmir Se Kanya Kumari
Yatra Ye Anuthi Hamari
Karke Bharat Ke Darshan
Hue Dhanya Ye Bhaag Hamare

Kahe Kal Kal Nadiya Pukare
Kahe Parvat Kare Ishare

Desh Apna Bharat
Iss Dharti Mein Sabse Nyara

Leave a Reply