दो दिन का जग में मेला सब चला चली का खेला

चलती चक्की देख कर, दिया कबीरा रोये
दो पाटन के बीच में, साबुत बचा ना कोए

दो दिन का जग में मेला सब
दो दिन का जग में मेला
राग: बंजारा ताल
दो दिन का जग में मेला,
सब चला चली का खेला।।

कोई चला गया कोई जावे,
कोई गठड़ी बांध सिधावेजी ,
कोई खड़ा तैयार अकेला,
दो दिन का जग में मेला,
सब चला चली का खेला।।

कर पाप कपट छल माया,
धन लाख करोड़ कमायाजी,
संग चले न एक अधेला,
दो दिन का जग में मेला,
सब चला चली का खेला।।

सुत नार मात पितु भाई
कोई अंत सहायक नाहीजी
क्यो भरे पाप का ठेला,
दो दिन का जग में मेला,
सब चला चली का खेला।।

यह नश्वर सब संसारा,
कर भजन ईश का प्याराजी,
ब्रह्मानंद कहे सुन चेला,
दो दिन का जग में मेला,
सब चला चली का खेला।।

Do Din Ka Jag Mein Mela
Sab Chala Chali Ka Khela

Chalti Chakki Dekh Ke
Diya Kabira Roye
Do Patan Ke Beech Mein
Sabut Bacha Na Koye

Do Din Ka Jag Mein Mela
Sab Chala Chali Ka Khela

Koi Chala Gaya Koi Jaave
Koi Gathari Bandh Sidhave
Koi Khada Taiyyar Akela Re
Ye Chala Chali Ka Khela Re
Khela Re Khela Re

Do Din Ka Jag Mein Mela
Sab Chala Chali Ka Khela

Paap Kapat Chhal Maya Karke
Laakh Karod Kamaya
Sang Chale Naa Ek Dhela Re
Ye Chala Chali Ka Khela Re
Khela Re Khela Re

Do Din Ka Jag Mein Mela
Sab Chala Chali Ka Khela

Maat Pita Sut Naari Bhayi
Ant Sahayak Naahi
Fir Kyu Bharta Paap Ka Thela Re
Ye Chala Chali Ka Khela Re
Khela Re Khela Re

Do Din Ka Jag Mein Mela
Sab Chala Chali Ka Khela

Ye To Hai Nashwar Sansaara
Bhajan Tu Karle Ish Ka Pyara
Brahmanand Kahe Sun Chela Re
Ye Chala Chali Ka Khela Re
Khela Re Khela Re

Do Din Ka Jag Mein Mela
Sab Chala Chali Ka Khela

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply