नदी किनारे नारियल पेड़ भाई

नदी किनारे नारिये री रे रे नारिये री रे,
ओ म्हारी कालिका माँ ने वास्ते रे भाई नारिये है रे,
नदी किनारे नारिये री रे भाई नारिये री रे।।

पहलो यो नारियल नवरंगी रे भाई नवरंगी रे,
हो म्हारी कालिका माँ के वास्ते रे भाई नवरंगी रे,
नदी किनारे नारियल पेड़ भाई भाई नारिये है रे।।

दूजो यो नारिये नवरंगी रे भाई नवरंगी रे,
हो म्हारी वैष्णव माँ के वास्ते रे नवरंगी रे,
नदी किनारे नारियल रे भाई भाई नारियल है रे।।

तीसरो यो नारियल नवरंगी रे भाई नवरंगी रे,
हो म्हारी अम्बा माँ के वास्ते रे भाई नवरंगी रे,
नदी किनारे नारियेरी रे भाई।।

चौथो यो नारियल नवरंगी रे भाई नवरंगी रे
हो म्हारी जगदम्बे माँ के वास्ते रे भाई नवरंगी रे
नदी किनारे नारियेरी रे भाई।।

पांचवो यो नारियल नवरंगी रे भाई नवरंगी रे,
हो म्हारी पाटना माँ के वास्ते रे भाई नवरंगी रे
नदी किनारे नारियेरी रे भाई भाई नारिये है रे।।

This Post Has One Comment

  1. Pingback: लाल चुनरिया ओढ़ाएंगे मईया को सजाएंगे – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply