नमस्कार देवी जयंती महारानी

नमस्कार देवी जयंती महारानी
श्री मंगला काली दुर्गा भवानी
कपालनी और भद्रकाली क्षमा माँ
शिवा धात्री श्री स्वाहा रमा माँ
नमस्कार चामुंडे जाग तारिणी को
नमस्कार मधु केटभ संघारिणी को
नमस्कार ब्रह्मा को वर देने वाली
ओ भक्तो के संकट को हर लेने वाली।।

तू संसार में भक्तो को यश दिलाए
तू दुष्टो के पंजे से सब को बचाए
तेरे चरण पूजूँ तेरा नाम गाऊँ
तेरे दिव्य दर्शन को हिरदे से चाहूँ
मेरे नैनो की मैया शक्ति बढ़ा दे
मेरे रोग संकट कृपा कर मिटा दे
तेरी शक्ति से मैं विजय पाता जाऊं
तेरे नाम के यश को फैलता जाऊं
नमस्कार देवी जयँती महारानी
श्री मंगला काली दुर्गा भवानी।।

मेरी आन रखना मेरी शान रखना,
मेरी मैया बेटे का तुम ध्यान रखना,
बनाना मेरे भाग्य दुख दूर करना,
तू है लक्ष्मी मेरे भंडार भरना,
ना निराश दर से मुझे तुम लोटाना,
सदा बेरियों से मुझे तुम बचाना,
मुझे तो तेरा बल है विश्वास तेरा,
तेरे चरणों में है नमस्कार मेरा,
नमस्कार देवी जयँती महारानी,
श्री मंगला काली दुर्गा भवानी।।

नमस्कार परमेश्वरी इंदरानी,
नमस्कार जगदम्बे जग की महारानी,
मेरा घर गृहस्थी स्वर्ग सम बनाना,
मुझे नेक संतान शक्ति दिलाना,
सदा मेरे परिवार की रक्षा करना,
ना अपराधों को मेरे दिल माही धरना,
नमस्कार और कोटि परणाम मेरा,
सदा ही मैं जपता रहूं नाम तेरा,
नमस्कार देवी जयँती महारानी,
श्री मंगला काली दुर्गा भवानी।।

जो स्त्रोत्र को प्रेम से पढ़ रहा हो,
जो हर वक़्त स्तुति तेरी कर रहा हो,
उसे क्या कमी है जमाने में माता,
भरे संपति कुल खजाने में माता,
जिसे तेरी किरपा का अनुभव हुआ है,
वो ही जीव दुनिया में उजवल हुआ है,
जगत जननी मैया का वरदान पाओ,
‘चमन’ प्रेम से पाठ दुर्गा का गाओ,
नमस्कार देवी जयँती महारानी,
श्री मंगला काली दुर्गा भवानी।।

सुख संपति सबको मिले रहे क्लेश ना लेश,
प्रेम से निश्चय धार कर पढ़े जो पाठ हमेश
संस्कृत के श्लोकों में गूढ़ है रस लव लीस,
ऋषि वाक्यों के भावो को समझे कैसे दीन
अति कृपा भगवान की “चमन” जब ही हो जाए,
पढ़े पाठ मन कामना पूरण सब हो जाए।।

नमस्कार देवी जयंती महारानी,
श्री मंगला काली दुर्गा भवानी,
कपालनी और भद्रकाली क्षमा माँ,
शिवा धात्री श्री स्वाहा रमा माँ,
नमस्कार चामुंडे जाग तारिणी को,
नमस्कार मधु केटभ संघारिणी को,
नमस्कार ब्रह्मा को वर देने वाली,
ओ भक्तो के संकट को हर लेने वाली।।

Namaskar Devi Jayanti Maharani
Shri Mangla Kaali Durga Bhavani
Kapalani Aur Bhadrakali Kshama Maa
Shiva Dhatri Shri Svaha Rama Maa
Namaskar Chamunde Jag Tarini Ko
Namaskar Madhu Ketabh Sangharini Ko
Namaskar Brahma Ko Var Dene Wali
O Bhakto Ke Sankat Ko Har Lene Wali

Tu Sansar Mein Bhakto Ko Yash Dilae
Tu Dushto Ke Panje Se Sab Ko Bachae
Tere Charan Pujun Tera Nam Gaun
Tere Divya Darshan Ko Hirade Se Chahun
Mere Naino Ki Maiya Shakti Badha De
Mere Rog Sankat Kripa Kar Mita De
Teri Shakti Se Main Vijay Pata Jaun
Tere Naam Ke Yash Ko Phailata Jaun
Namaskar Devi Jayanti Maharani
Shri Mangala Kaali Durga Bhavani

Meri Aan Rakhana Meri Shaan Rakhana
Meri Maiya Bete Ka Tum Dhyan Rakhana
Banana Mere Bhagya Dukh Dur Karna
Tu Hai Lakshmi Mere Bhandar Bharana
Na Niraash Dar Se Mujhe Tum Lotana
Sada Beriyon Se Mujhe Tum Bachana
Mujhe To Tera Bal Hai Vishvas Tera
Tere Charano Mein Hai Namaskar Mera
Namaskar Devi Jayanti Maharani
Shri Mangala Kali Durga Bhavani

Namaskar Parameshvari Indarani
Namaskar Jagadambe Jag Ki Maharani
Mera Ghar Grihasthi Svarg Sam Banana
Mujhe Nek Santan Shakti Dilana
Sada Mere Parivar Ki Raksha Karna
Na Apradhon Ko Mere Dil Mahi Dharana
Namaskar Aur Koti Paranam Mera
Sada Hi Main Japata Rahun Naam Tera
Namaskar Devi Jayanti Maharani
Shri Mangala Kali Durga Bhavani

Jo Strotr Ko Prem Se Padh Raha Ho
Jo Har Vaqt Stuti Teri Kar Raha Ho
Use Kya Kami Hai JaMaae Mein Mata
Bhare Sampati Kul Khajane Mein Mata
Jise Teri Kripa Ka Anubhav Hua Hai
Vo Hi Jiv Duniya Mein Ujaval Hua Hai
Jagat Janani Maiya Ka Varadan Pao
Chaman Prem Se Path Durga Ka Gao
Namaskar Devi Jayanti Maharani
Shri Mangla Kali Durga Bhavani

Sukh Sampati Sabako Mile Rahe Klesh Na Lesh
Prem Se Nishchay Dhar Kar Padhe Jo Path Hamesh
Sanskrt Ke Shlokon Mein Gudh Hai Ras Lav Leen
Rshi Vakyon Ke Bhavo Ko Samajhe Kaise Deen
Ati Krpa Bhagavan Ki chaman Jabhi Ho Jae
Padhe Path Maa KaMaaa Puran Sab Ho Jae

Namaskar Devi Jayanti Maharani
Shri Mangla Kali Durga Bhavani

http://www.youtube.com/watch?v=9Sg-fASKzcc

Leave a Reply