नयी उड़ान अब भर ले तू नये ढंग से जी ले तू

नयी उड़ान अब भर ले तू
नये ढंग से जी ले तू ।।


नयी उड़ान अब भर ले तू,
नये ढंग से जी ले तू,
सपने होंगे पुर तेरे,
फिर से छड़ी घुंमाले तू।।

आशाओ की छड़ी है तेरे हाथो में,
किरण सुनहरी खड़ी है तेरी रहो में,
नयी सुबह आई जीवन में,
अपना जीवन जी ले तू।।

नयी उड़ान अब भर ले तू
नये ढंग से जी ले तू।।

ख्वाहिश अपनी करले पूरे जीवन में,
अमर प्यार को भर ले अपने जीवन में,
काटो में जो फूल खिला है,
अपना जीवन जी ले तू।।

नयी उड़ान अब भर ले तू
नये ढंग से जी ले तू।।

मुश्किल तो आती और जाती छाया है,
फिर भी हमने गीत खुशी का गया है,
हंसता गाता चेहरा लेकर,
अपना जीवन जी ले तू।।

नयी उड़ान अब भर ले तू
नये ढंग से जी ले तू।।

Nayi Udaan Abb Bhar Le Tu
Naye Dhang Se Jee Le Tu

Nayi Udaan Abb Bhar Le Tu
Naye Dhang Se Jee Le Tu

Sapne Honge Poore Tere
Fir Se Chhadi Ghumale Tu

Aashao Ki Chhadi Hai Tere Hatho Mein
Kiran Sunhari Khadi Hai Teri Raho Mein
Nayi Subah Aayi Jeevan Mein
Apna Jeevan Jee Le Tu

Nayi Udaan Abb Bhar Le Tu
Naye Dhang Se Jee Le Tu

Khwahish Apni Karle Pure Jeevan Mein
Amar Pyar Ko Bharle Apne Jeevan Mein
Kaato Mein Jo Phool Khila Hai Apna Jeevan Jee Le Tu

Nayi Udaan Abb Bhar Le Tu
Naye Dhang Se Jee Le Tu

Muskil To Aati Aur Jaati Chhaya Hai
Fir Bhi Hamne Geet Khushi Ka Gaya Hai
Hansta Gata Chehra Lekar Apna Jeevan Jee Le Tu

Nayi Udaan Abb Bhar Le Tu
Naye Dhang Se Jee Le Tu

Leave a Reply