नाचे मदन गोपाल बाज रही पायलिया

नाचे मदन गोपाल बाज रही पायलिया,
बाज रही प्यालियाँ,
नाचे मदन गोपाल बाज रही पायलिया।।

पग में नुपुर भाजे छम छम
कान्हा नाचे यशोमती आंगन
पुर वैजयन्ती माल बाज रही पायलिया।।

श्याम घटा घुंगराली अलकं
तीन लोक मनुहारी मुस्कन
नैना बने विशाल बाज रही पायलिया
नाचे मदन गोपाल बाज रही पायलिया।।

चंचन चितवन वेन रसीले,
नील कमल है कृष्ण छबीले
सांवरिया नन्द लाल बाज रही पायलिया
नाचे मदन गोपाल बाज रही पायलिया।।

परमा नन्द मंगन ब्रिज वासी
राधा रमण रूप सुख रासी,
सुख सागर गोपाल
बाज रही पायलिया
नाचे मदन गोपाल बाज रही पायलिया।।

Leave a Reply