नाथ मोहे कैसे तारोगे प्रभु जी मोहे कैसे तारोगे

मेरा अवगुण भरा शरीर मिला न कोई गुरु न पीर,
नाथ मोहे कैसे तारोगे प्रभु जी मोहे कैसे तारोगे।।

पानी गंदला साफुन थोड़ा सारा जीवन मैला,
पंच चोर बिन लागि नगरियां कैसे मन को धीर,
मिला न कोई गुरु न पीर,
प्रभु जी मोहे कैसे तारोगे,नाथ मोहे कैसे तारोगे
नाथ मोहे कैसे तारोगे प्रभु जी मोहे कैसे तारोगे।।

मैं मैं करते जन्म गवाया धर्म कर्म न जाना,
मद माया में लिपट हो मेरी राम गोदता सीर,
मिला न कोई गुरु न पीर,
नाथ मोहे कैसे तारोगे प्रभु जी मोहे कैसे तारोगे,

हाड मॉस के इस पिंजर को लीपा पोती किनी,
मन मंदिर ना पूजा कीह्नी जिहने हिरदो शरीर,
मिला न कोई गुरु न पीर,
नाथ मोहे कैसे तारोगे प्रभु जी मोहे कैसे तारोगे।।

देख न खाया छान ना पिया लुटा हित पराया.
तात पराई का ताक बेगैनी का तू रिश्ता भरा शरीर,
मिला न कोई गुरु न पीर,
प्रभु जी मोहे कैसे तारोगे,नाथ मोहे कैसे तारोगे।।

Mera Avgun Bhara Sharir
Mila Na Koi Guru Naa Peer
Nath Mohe Kaise Taroge
Prabhuji Mohe Kaise Taroge

Paani Gandhala Sabun Thoda
Saara Jeevan Maila
Saara Jeevan Maila
Panch Chor Mil Laage Nagariya
Kaise Man Ko Dheer
Mila Naa Koi Guru Naa Peer
Nath Mohe Kaise Taroge
Prabhuji Mohe Kaise Taroge

Main Main Karte Janam Gavaya
Dharma Karam Naa Jana
Mad Maya Lipata Rahi
Kaam Krodh Taseer
Mila Naa Koi Guru Naa Peer
Nath Mohe Kaise Taroge
Prabhuji Mohe Kaise Taroge

Haad Maas Ke Iss Pinjar Ko
Leepa Poti Keeni
Man Mandir Naa Pooja Keeni
Jinho Ne Diya Sharir
Nath Mohe Kaise Taroge
Prabhuji Mohe Kaise Taroge

Dekh Naa Khaya Chaan Naa Piya
Loota Hit Paraya
Loot Hit Paraya
Taat Parayi Kaki Begani
Biksha Bhara Sharir
Mila Naa Koi Guru Naa Peer
Nath Mohe Kaise Taroge
Prabhuji Mohe Kaise Taroge

This Post Has One Comment

Leave a Reply