ना तन काम का है ना मन काम का है तू करले हरी का भजन काम का है

ना तन काम का है
ना मन काम का है

तू करले हरी का भजन
काम का है

कोई लालसा ना कोई कामना हो
हरदे में समर्पण
की बस भावना हो

वो चिंतन वो सुमिरन
मनन काम का है

तू करले हरी का भजन
काम का है

छल बल से माना
ये दौलत कमली

मगर अंत में
हाथ है फिर भी खाली

तू खुद सोच कितना
ये धन काम का है

तू करले हरी का भजन
काम का है।।

तन मन जो निर्मल
जो पवन बनडे

प्रभु से मिला दे
जो दर्शन करा दे

तू सुंले वो तेरा
जतन काम का है

तू करले हरी का भजन
काम का है

ना तन काम का है
ना मन काम का है

तू करले हरी का भजन
काम का है।।

Naa Tan Kaam Ka Hai
Naa Mann Kaam Ka Hai

Naa Tan Kaam Ka Hai
Naa Mann Kaam Ka Hai

Tu Karle Hari Ka Bhajan
Kaam Ka Hai

Koi Laalsa Naa Koi Kamna Ho
Harday Mein Samarpan
Ki Bus Bhaavna Ho

Vo Chintan Vo Sumiran
Manan Kaam Ka Hai

Tu Karle Hari Ka Bhajan
Kaam Ka Hai

Chhal Bal Se Maana
Ye Daulat Kamali

Magar Ant Mein
Haath Hai Fir Bhi Khali

Tu Khud Soch Kitna
Ye Dhan Kaam Ka Hai

Tu Karle Hari Ka Bhajan
Kaam Ka Hai

Tan Man Jo Nirmal
Jo Pawan Banade

Prabhu Se Mila De
Jo Darshan Kara De

Tu Sunle Vo Tera
Jatan Kaam Ka Hai

Tu Karle Hari Ka Bhajan
Kaam Ka Hai

Naa Tan Kaam Ka Hai
Naa Mann Kaam Ka Hai

Tu Karle Hari Ka Bhajan
Kaam Ka Hai

This Post Has 2 Comments

  1. Pingback: bhakti aur bhajans lyrics in hinfi fonsts – bhakti.lyrics-in-hindi.com

  2. Pingback: मुसाफिर songs geet lyrics – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply