परदा जरा हटा दे इक बार ऐ साँवरिया

परदा जरा हटा दे,इक बार ऐ साँवरिया
परदा जरा हटा दे,इक बार ऐ साँवरिया
जी भर के तेरा कर लूं,दीदार ऐ साँवरिया

दिल दे चुका हूं तुमको,अधिकार इस पे तेरा
इस प्यार पे रहा ना,अब जोर कोई मेरा
मुझे दर पे खींच लाया, तेरा प्यार ऐ साँवरिया
परदा जरा हटा दे…

जग में ना कोई ऐसा,दुख में जो सीर कर ले
जो पौंछ डाले आँसू,निर्बल की पीर हर ले
ऐसा तो एक तू ही है यार ऐ साँवरिया
परदा जरा हटा दे…

मैं तो सदा रहा हूँ, तेरे द्वार का भिखारी
फैला के हाथ माँगू,दाता दया तुम्हारी
विनती ये मेरी कर लो, स्वीकार ऐ साँवरिया
परदा जरा हटा दे…

सिंगर – मुकेश मीणा जी।

Leave a Reply