प्रार्थना कर जगत के पालनहार से

हरी ओम हरी ओम हरी ओम हरी ओम
जब दुःख से मन घबरा जाये
हर ओर निराशा छा जाये
जब दुःख से मन घबरा जाये
हर ओर निराशा छा जाये
जब एक किरण भी आशा की
आती हो नहीं नजर
प्रार्थना कर प्रार्थना कर
जगत के पालन हार से
प्रार्थना कर प्रार्थना कर
हरी ओम हरी ओम हरी ओम हरी ओम
हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ।।

तू जान बूझ कोई पाप न कर
हो जाये तो पश्चाताप न कर
तू जान बूझ कोई पाप न कर
हो जाये तो पश्चाताप न कर
ये सब लीला उस ईश्वर की
तू ध्यान उसी का घर
प्रार्थना कर प्रार्थना कर
जगत के पालन हार से
प्रार्थना कर प्रार्थना कर
हरी ओम हरी ओम हरी ओम हरी ओम
हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ।।

जिसको न किसी ने देखा है
वो एक करम की रेखा है
जिसको न किसी ने देखा है
वो एक करम की रेखा है
वो सब का भाग्य विधाता है
सबकी है उसे खबर
प्रार्थना कर प्रार्थना कर
जगत के पालन हार से
प्रार्थना कर प्रार्थना कर
हरी ओम हरी ओम हरी ओम हरी ओम
हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ।।

जोली सुख से भर देगा वो
सब भूल गमा कर देगा वो
जोली सुख से भर देगा वो
सब भूल गमा कर देगा वो
चाहे जग तुझसे मुखडा फेरे
तू उससे मिला नज़र
प्रार्थना कर प्रार्थना कर
जगत के पालन हार से
प्रार्थना कर प्रार्थना कर
हरी ओम हरी ओम हरी ओम हरी ओम
हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ।।

Leave a Reply