फड़ो फड़ो नी सहलियो मखना दा चोर

फड़ो फड़ो नी सहलियो मखना दा चोर,
नी ओ मेरे दिल दा चोर,
नी ओ तेरे दिल चोर,
नी ओ सबदे दिल दा चोर,
फड़ो फड़ो नी सहलियो मखना दा चोर।।

एक दिन सारिया सखिया गईया मात यशोदा कौल,
सारिया केहन्दिया मैया श्याम साडी देंदा मटकिया फोड़,
देंदा मटकिया फोड़, देंदा बहिया नी मरोड़,
फड़ो फड़ो नी सहलियो मखना दा चोर।।

मैया श्याम नू खेचन लगीं ऐ की शोर मचाया,
सारे मैनू देंदे ऊलाहने तैनू तरस ना आया,
पाया ब्रिज विच शोर, पाया गोपिया ने शोर,
फड़ो फड़ो नी सहलियो मखना दा चोर।।

ना मैया मै मटकी फोड़ी, ना मैं बहिया मरोड़ी,
ऐ गोपिया ते सारिया झूठिया गला गल्ला होर,
ऐ ते गल्ला करदिया होर, पाया ब्रिज विच शोर,
फड़ो फड़ो नी सहलियो मखना दा चोर।।

हाथ जोड़ के दासी बोले सुन लो बंसी वाले,
सानू ते इक तेरा सहारा अपनी चरणी लालै,
साडी तेरे हथ डोर, छड्डी तेरे हथ डोर,
फड़ो फड़ो नी सहलियो मखना दा चोर।।

Leave a Reply