बजरंगी नाचे बालाजी नाचे

राम की मस्त में नाचे पाँव में घुंघरू है बाजे
बजरंगी नाचे बालाजी नाचे
बजरंगी नाचे छम छम छम छम बालाजी नाचे छम छम छम छम
हाथ घडताल बेजान जी राम की मस्ती में नाचे
बजरंगी नाचे बालाजी नाचे
बजरंगी नाचे छम छम छम छम बालाजी नाचे छम छम छम छम

राम की धुन में रहता मगन ये
राम का सेवक प्यारा रे देखो
राम प्रभु की शरण में रहता
भारत सा लगता प्यारा रे देखो
राम का बना हुआ दरबान
है लीला इनकी अजब महान
बजरंगी नाचे…………..

रोम रोम में राम समाये
सूरत मन में बसा ली ये बाबा
सीना पहाड़ दिखाया जग को
लीला अजब निराली ये बाबा
हृदय में सियाराम हैं इनके बिराजे
राम की भक्ति में है राजे
बजरंगी नाचे…………..

मेहंदीपुर में ये बाबा तो
सबके संकट काटे बालाजी
सालासर के मंदिर में ये
झोली भर भर बांटे बालाजी
धाम है दोनों जग से निराले
स्नेह तू इनकी महिमा गए ले
बजरंगी नाचे…………..

Leave a Reply