बजरंग बलि आओ तुम्हे भक्त बुलाते है

बजरंग बलि आओ तुम्हे भक्त बुलाते है
गुणगान तेरा हम सब मिलकर के गाते है
बजरंग बलि आओ तुम्हे भक्त बुलाते है

बस एक तुझे माना दूजा न देखा है
तेरे हाथो बजरंग किश्मत का लेखा है
तेरे द्वार पे आकर के किश्मत को जागते है
बजरंग बलि आओ तुम्हे भक्त बुलाते है

कितने है नाम सुने बस एक तुम्हे जाना
सब छोड़ के दर मैंने तेरा दर है पहचाना
भाव पार करोगे तुम हम आस लगते है
बजरंग बलि आओ तुम्हे भक्त बुलाते है

मैं जगह जगह डोलू आदत ये नहीं मेरी
एक दिन पद जायेगी रेहमत की नजर तेरी
तेरी चौखट पर आकर बिगड़ी को बनाते है
बजरंग बलि आओ तुम्हे भक्त बुलाते है

जिसने जो माँगा है तुमसे वो पाया है
अंधे को आँखे दी कोढ़ी को काया है
दिया प्रेम ज्ञान तुमने जो भजन सुनते है
बजरंग बलि आओ तुम्हे भक्त बुलाते है

बजरंग बलि आओ तुम्हे भक्त बुलाते है
गुणगान तेरा हम सब मिलकर के गाते है
बजरंग बलि आओ तुम्हे भक्त बुलाते है

Leave a Reply