बाँध के घुंगरू नाचे हनुमत बाला जी

राम सिया राम सिया राम सिया राम
बाँध के घुंगरू नाचे हनुमत बाला जी
झूम झूम कर नाचे हनुमत बाला जी,
राम सिया राम सिया राम सिया राम।।

बाला जी अपने भगतो के सारे काम सवार रहे,
जो भी इनके दर पर आये उनके भाग सवार रहे,
राम सिया राम सिया राम सिया राम।।

बाला जी के नाम का अमृत जो नही चख पाए गा,
सच केहता हु सुन लो भगतो वो हर पल पछताए गा,
राम सिया राम सिया राम सिया राम।।

लाल जोगिन्दर चंचल बाबा तुम को सदा मनायेगा
पाँव में घुंगरू बाँध कर बाबा झूम झूम कर नाचेगा
राम सिया राम सिया राम सिया राम।।

This Post Has One Comment

  1. Pingback: यहां बनती है तकदीरे है वो दरबार मेहंदीपुर – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply