बालाजी के दर से हम खाली नहीं जाएंगे

बालाजी के दर से हम खाली नहीं जाएंगे
संकट को मिटाकर हम दर से अब जाएंगे
सालासर धाम से हम मेहंदीपुर धाम से हम खुशियां है पाएंगे
बालाजी के दर से हम खाली नहीं जाएंगे
संकट को मिटाकर हम दर से अब जाएंगे ।।

बालाजी के चरणों में हम शीश झुकाते है
बालाजी की महिमा को हम दिल से सुनाते है
खोल दिल के दरवाजे बालाजी को बुलाएँगे
सालासर धाम से हम मेहंदीपुर धाम से हम खुशियां है पाएंगे
बालाजी के दर से हम खाली नहीं जाएंगे
संकट को मिटाकर हम दर से अब जाएंगे ।।

बालाजी भक्तो के सब संकट हारते है
देखो भूत पिसाच भी बालाजी से डरते है
जो कर न सके कोई वो करके दिखते है
सालासर धाम से हम मेहंदीपुर धाम से हम खुशियां है पाएंगे
बालाजी के दर से हम खाली नहीं जाएंगे
संकट को मिटाकर हम दर से अब जाएंगे ।।

Leave a Reply