बालाजी संकट काटे संग शनि देव नज़ारे फिराते

दुःख बालाजी संकट काटे
संग शनि देव नज़ारे फिराते
जिनकी नजरो को दुनिया तरसती
उनकी कृपा सब पे बरसती
बाला कष्टों पे सोता फिराते
संग शनि देव नज़ारे फिराते।।

काम बिगड़े इनसे ही बनते
साथ भक्तो के हरपाल ये चलते
कैसे बालाजी दिल में समाते
संग शनिदेव नज़ारे फिराते।।

साड़ी विपदा सब तुमको बातये
तेरा केशव भी अर्जी लगाए
सच्ची कुर्मी अमन है बताते
संग शनिदेव नज़ारे फिराते।।

दुःख बालाजी संकट काटे
संग शनि देव नज़ारे फिराते
जिनकी नजरो को दुनिया तरसती
उनकी कृपा सब पे बरसती
बाला कष्टों पे सोता फिराते
संग शनि देव नज़ारे फिराते।।

Leave a Reply