बृज में बाजे बधाई जनम लियो कृष्ण कन्हाई

बृज में बाजे बधाई जनम लियो कृष्ण कन्हाई,
बृज में बाजे बधाई जनम लियो कृष्ण कन्हाई,
कृष्ण कन्हाई, कृष्ण कन्हाई,
बृज में खुशियां छाई जनम लियो कृष्ण कन्हाई।।

गोपी ग्वाले दौड़े आए नन्द बाबा को खबर सुनाए,
नन्द बाबा ने खोले ख़जाने हीरे मोती लगे लुटाने,
सब मिल देवे बधाई ऐ री सखी,
सब मिल देवे बधाई जनम लियो कृष्ण कन्हाई,
बृज में बाजे बधाई जनम लियो कृष्ण कन्हाई।।

ए री सखी सब मंगल गावों,
कान्हां को काला टीका लगाओ,
नज़र ना लागे मेरे ललना को,
मात यसोदा झुलाए पलना को,
बाँटे खूब मिठाई ऐ री सखी, बाँटे खूब मिठाई,
जनम लियो कृष्ण कन्हाई गोकुल बाजे बधाई,
जनम लियो कृष्ण कन्हाई।।

ढोलक ढ़ोल मजीरे बाजे,
गोपी ग्वाल सब मिल जल नाचे,
नांचे मोर पपीहा बोले बृजवासी मस्ती में डोले,
बृज में धूम मचाई ऐ री सखी, बृज में धूम मचाई,
जनम लियो कृष्ण कन्हाई,
बृज में बाजे बधाई जनम लियो कृष्ण कन्हाई।।

बृज में बाजे बधाई जनम लियो कृष्ण कन्हाई,
बृज में बाजे बधाई जनम लियो कृष्ण कन्हाई,
कृष्ण कन्हाई, कृष्ण कन्हाई बृज में खुशियां छाई,
जनम लियो कृष्ण कन्हाई।।

नन्द के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की,
नन्द के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की,
हाथी देवे घोड़ा देवे और देवे पालकी देवे,
नन्द के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की,
बधाई हो, बधाई हो।।

Leave a Reply