ब्रिज में शोर है कन्हिया चित चोर है

ब्रिज में शोर है कन्हिया चित चोर है,
के बच के रेहना कान्हा से बड़ा ही मुह जोर है,
ब्रिज में शोर है कन्हिया चित चोर है।।

सारे ग्वाल गोपियों से पूछ लो बात तुम,
गोकुल की गलियों से भी पूछ लो बात तुम
बड़ा ही चंचल है ये माखन चोर है
के बच के रेहना कान्हा से बड़ा ही मुह जोर है,
ब्रिज में शोर है कन्हिया चित चोर है।।

बंसी बजा के छलियाँ जादू कर देता है
अपनी अदाओं से ये चैन लुट लेता है,
बड़ा ही रसिया है ये नन्द किशोर है,
के बच के रेहना कान्हा से बड़ा ही मुह जोर है,
ब्रिज में शोर है कन्हिया चित चोर है।।

चीर चुराता है ये कर बार जोरी भी,
गोपियों से रार करे लाज नही थोड़ी भी
चोखानी ये दुनिया तो इसी की और है
के बच के रेहना कान्हा से बड़ा ही मुह जोर है,
ब्रिज में शोर है कन्हिया चित चोर है।।

Brij Mein Shor Hai Kanhiya Chit Chor Hai
Ke Bach Ke Rehna Kanha Se Bada Hi Muh Jor Hai
Brij Mein Shor Hai Kanhiya Chitchor Hai

Sare Gval Gopiyon Se Puchh Lo Bat Tum
Gokul Ki Galiyon Se Bhi Puchh Lo Bat Tum
Bada Hi Chanchal Hai Ye Makhan Chor Hai
Ke Bach Ke Rehana Kanha Se Bada Hi Muh Jor Hai
Brij Mein Shor Hai Kanhiya Chitchor Hai

Bansi Baja Ke Chhaliyan Jadu Kar Deta Hai
Apni Adaon Se Ye Chain Loot Leta Hai
Bada Hi Rasiya Hai Ye Nand Kishor Hai
Ke Bach Ke Rehna Kanha Se Bada Hi Muh Jor Hai
Brij Mein Shor Hai Kanhiya Chit Chor Hai

Chir Churata Hai Ye Kar Bar Jori Bhi
Gopiyon Se Rar Kare Laj Nahi Thodi Bhi
Chokhani Ye Duniya To Isi Ki Aur Hai
Ke Bach Ke Rehna Kanha Se Bada Hi Muh Jor Hai
Brij Mein Shor Hai Kanhiya Chit Chor Hai

Leave a Reply