भक्तो के हनुमान जी खुशियों का भंडार है

भक्तो के हनुमान जी खुशियों का भंडार है
जो भी तुमको मान ले कर
जो उनका ध्यान ले उसका ही उधार है।।

भक्तो को देदे शक्ति की छाया भक्तो को तुम्हे अपनों से प्यार है
भरता नही दिल दर्शन से तेरे कैसा ये दाता चमत्कार है
हाथ गधा साजे दुष्टों पे जो बजे इतना बजे कोई हिसाब नही है
राम के है प्यारे सिया के दुलारे भगती में इनका जवाब नही है
तुम से तो डरते सभी तोड़े अहंकार है
जो भी तुमको मान ले कर जो उनका ध्यान ले उसका ही उधार है।।

कर देते तुम ही रावन की मुक्ति तब राम ने लिया अवतार है
तुम से भिड़े जो किस में है वो दम असुरो का करते तुम संगार है
भगतो के हो प्यारे राम के दुलारे उनकी तो तुम से ही जान बची है
राम नाम गा लो हनुमंत मना लो हनुमत से ही सारी आस लगी है
तुमें मानते दिल की धडकन भगतो का इकरार है
जो भी तुमको मान ले कर जो उनका ध्यान ले उसका ही उधार है।।

Leave a Reply