भगवान आस लगाए कब से

भगवान आस लगाए कब से,
देखो बाट निहारे है,
फसी है बीच भवर नईया,
भगवान तुमको पुकारे है।।

दर दर ठोकर मैंने खाई,
दर दर जाकर ज्योत जलाई,
अब तो सुन लो मेरी पुकार,
भगवान बाट निहारे है,
भगवान आस लगाए कब से,
देखो बाट निहारे है।।

मैं पापी मुझे देदो सहारा,
दूर बसनो से देदो किनारा,
भगवान आस लगाए कब से,
देखो बाट निहारे है,
अब तो सुन लो मेरी पुकार,
भगवान बाट निहारे है,
भगवान आस लगाए कब से,
देखो बाट निहारे है।।

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply