भगवान कुबेर चालीसा – हिन्दी

॥ दोहा ॥

जैसे अटल हिमालय,और जैसे अडिग सुमेर।

ऐसे ही स्वर्ग द्वार पै,अविचल खड़े कुबेर॥

विघ्न हरण मंगल करण,सुनो शरणागत की टेर।

भक्त हेतु वितरण करो,धन माया के ढ़ेर॥

॥ चौपाई ॥

जय जय जय श्री कुबेर भण्डारी।धन माया के तुम अधिकारी॥

तप तेज पुंज निर्भय भय हारी।पवन वेग सम सम तनु बलधारी॥

स्वर्ग द्वार की करें पहरे दारी।सेवक इन्द्र देव के आज्ञाकारी॥

यक्ष यक्षणी की है सेना भारी।सेनापति बने युद्ध में धनुधारी॥

महा योद्धा बन शस्त्र धारैं।युद्ध करैं शत्रु को मारैं॥

सदा विजयी कभी ना हारैं।भगत जनों के संकट टारैं॥

प्रपितामह हैं स्वयं विधाता।पुलिस्ता वंश के जन्म विख्याता॥

विश्रवा पिता इडविडा जी माता।विभीषण भगत आपके भ्राता॥

शिव चरणों में जब ध्यान लगाया।घोर तपस्या करी तन को सुखाया॥

शिव वरदान मिले देवत्य पाया।अमृत पान करी अमर हुई काया॥

धर्म ध्वजा सदा लिए हाथ में।देवी देवता सब फिरैं साथ में॥

पीताम्बर वस्त्र पहने गात में।बल शक्ति पूरी यक्ष जात में॥

स्वर्ण सिंहासन आप विराजैं।त्रिशूल गदा हाथ में साजैं॥

शंख मृदंग नगारे बाजैं।गंधर्व राग मधुर स्वर गाजैं॥

चौंसठ योगनी मंगल गावैं।ऋद्धि सिद्धि नित भोग लगावैं॥

दास दासनी सिर छत्र फिरावैं।यक्ष यक्षणी मिल चंवर ढूलावैं॥

ऋषियों में जैसे परशुराम बली हैं।देवन्ह में जैसे हनुमान बली हैं॥

पुरुषों में जैसे भीम बली हैं।यक्षों में ऐसे ही कुबेर बली हैं॥

भगतों में जैसे प्रहलाद बड़े हैं।पक्षियों में जैसे गरुड़ बड़े हैं॥

नागों में जैसे शेष बड़े हैं।वैसे ही भगत कुबेर बड़े हैं॥

कांधे धनुष हाथ में भाला।गले फूलों की पहनी माला॥

स्वर्ण मुकुट अरु देह विशाला।दूर दूर तक होए उजाला॥

कुबेर देव को जो मन में धारे।सदा विजय हो कभी न हारे॥

बिगड़े काम बन जाएं सारे।अन्न धन के रहें भरे भण्डारे॥

कुबेर गरीब को आप उभारैं।कुबेर कर्ज को शीघ्र उतारैं॥

कुबेर भगत के संकट टारैं।कुबेर शत्रु को क्षण में मारैं॥

शीघ्र धनी जो होना चाहे।क्युं नहीं यक्ष कुबेर मनाएं॥

यह पाठ जो पढ़े पढ़ाएं।दिन दुगना व्यापार बढ़ाएं॥

भूत प्रेत को कुबेर भगावैं।अड़े काम को कुबेर बनावैं॥

रोग शोक को कुबेर नशावैं।कलंक कोढ़ को कुबेर हटावैं॥

कुबेर चढ़े को और चढ़ादे।कुबेर गिरे को पुन: उठा दे॥

कुबेर भाग्य को तुरंत जगा दे।कुबेर भूले को राह बता दे॥

प्यासे की प्यास कुबेर बुझा दे।भूखे की भूख कुबेर मिटा दे॥

रोगी का रोग कुबेर घटा दे।दुखिया का दुख कुबेर छुटा दे॥

बांझ की गोद कुबेर भरा दे।कारोबार को कुबेर बढ़ा दे॥

कारागार से कुबेर छुड़ा दे।चोर ठगों से कुबेर बचा दे॥

कोर्ट केस में कुबेर जितावै।जो कुबेर को मन में ध्यावै॥

चुनाव में जीत कुबेर करावैं।मंत्री पद पर कुबेर बिठावैं॥

पाठ करे जो नित मन लाई।उसकी कला हो सदा सवाई॥

जिसपे प्रसन्न कुबेर की माई।उसका जीवन चले सुखदाई॥

जो कुबेर का पाठ करावै।उसका बेड़ा पार लगावै॥

उजड़े घर को पुन: बसावै।शत्रु को भी मित्र बनावै॥

सहस्त्र पुस्तक जो दान कराई।सब सुख भोग पदार्थ पाई॥

प्राण त्याग कर स्वर्ग में जाई।मानस परिवार कुबेर कीर्ति गाई॥

॥ दोहा ॥

शिव भक्तों में अग्रणी,श्री यक्षराज कुबेर।

हृदय में ज्ञान प्रकाश भर,कर दो दूर अंधेर॥

कर दो दूर अंधेर अब,जरा करो ना देर।

शरण पड़ा हूं आपकी,दया की दृष्टि फेर॥

॥ इति श्री कुबेर चालीसा समाप्त ॥

Lord Kubera Chalisa – English Lyrics

॥ Doha ॥

Jaise Atala Himalaya,Aura Jaise Adiga Sumera।

Aise Hi Swarga Dwara Pai,Avichala Khade Kubera॥

Vighna Harana Mangala Karana,Suno Sharanagata Ki Tera।

Bhakta Hetu Vitarana Karo,Dhana Maya Ki Dhera॥

॥ Chaupai ॥

Jai Jai Jai Shri Kubera Bhandari।Dhana Maya Ke Tum Adhikari॥

Tapa Teja Punja Nirbhaya Bhaya Hari।Pavana Vega Sama Sama Tanu Baladhari॥

Swarga Dwara Ki Karein Pahare Dari।Sevaka Indra Deva Ke Agyakari॥

Yaksha Yakshani Ki Hai Sena Bhari।Senapati Bane Yuddha Mein Dhanudhari॥

Maha Yoddha Bana Shastra Dharain।Yuddha Karain Shatru Marain॥

Sada Vijayi Kabhi Na Harain।Bhagata Jano Ke Sankata Tarain॥

Prapitamaha Hain Swayam Vidhata।Pulista Vansha Ke Janma Vikhyata॥

Vishrava Pita Idavida Ji Mata।Vibhishana Bhagata Apake Bhrata॥

Shiva Charano Mein Jaba Dhyana Lagaya।Ghora Tapasya Kari Tana Sukhaya॥

Shiva Varadana Mile Devatya Paya।Amrita Pana Kari Amara Kaya॥

Dharma Dhwaja Sada Liye Hatha Me।Devi Devata Saba Phirain Satha Me॥

Pitambara Vastra Pahane Gatha Mein।Bala Shakti Puri Yaksha Jata Mein॥

Swarna Simhasana Apa Virajain।Trishula Gada Hath Mein Sajain॥

Shankha Mridanga Nagare Bajain।Gandharva Raag Madhura Gajain॥

Chausatha Yogani Mangala Gavain।Riddhi Siddhi Nita Bhoga Lagavain॥

Dasa Dasini Sira Chhatra Phiravain।Yaksha Yakshani Mila Chanvara Dhulavain॥

Rishiyon Mein Jaise Parashurama Bali Hain।Devanha Mein Jaise Hanuman Bali Hain॥

Purusho Mein Jaise Bhima Bali Hain।Yaksho Mein Aise Hi Kubera Bali Hain॥

Bhagato Mein Jaise Prahlada Bade Hain।Pakshiyo Mein Jaise Garud Bade Hain॥

Nagon Mein Jaise Shesh Bade Hain।Vaise Hi Bhagat Kubera Bade Hain॥

Kandhe Dhanusha Hath Mein Bhala।Gale Phulon Ki Pahani Mala॥

Swarna Mukuta Aru Deha Vishala।Dura Dura Tak Hoye Ujala॥

Kubera Deva Ko Jo Mana Dhare।Sada Vijayi Ho Kabhi Na Hare॥

Bigade Kama Bane Jaye Sare।Anna Dhana Ke Rahen Bhare Bhandare॥

Kubera Gariba Ko Apa Ubharain।Kubera Karja Ko Shighra Utarain॥

Kubera Bhagata Ke Sankata Tarain।Kubera Shatru Ko Kshana Mein Marain॥

Shighra Dhani Jo Hona Chahe।Kyun Nahi Yaksha Kubera Manaye॥

Yaha Path Jo Padhe Padhaye।Dina Dugana Vyapara Badhaye॥

Bhuta Preta Ko Kubera Bhagavain।Ade Kama Ko Kubera Banavain॥

Rog Shoka Ko Kubera Nashavain।Kalanka Kodha Ko Kubera Hatavain॥

Kubera Chadhe Ko Aura Chadha De।Kubera Gire Ko Punah Utha De॥

Kubera Bhagya Ko Turanta Jaga De।Kubera Bhule Ko Raha Bata De॥

Pyase Ki Pyasa Kubera Bujha De।Bhukhe Ki Bhukha Kubera Mita De॥

Rogi Ka Roga Kubera Ghata De।Dukhiya Ka Dukha Kubera Chhuta De॥

Banjha Ki Goda Kubera Bhara De।Karobara Ko Kubera Badha De॥

Karagara Se Kubera Chhuda De।Chora Thago Se Kubera Bacha De॥

Korta Kesa Mein Kubera Jitavai।Jo Kubera Ko Mana Mein Dhyavai॥

Chunava Mein Jita Kubera Karavain।Mantri Pada Para Kubera Bithavain॥

Path Kare Jo Nita Mana Lai।Usaki Kala Ho Sada Savai॥

Jisape Prasanna Kubera Ki Mai।Usaka Jivan Chale Sukhadai॥

Jo Kubera Ka Path Karavai।Usaka Beda Para Lagavai॥

Ujade Ghara Ko Punah Basavai।Shatru Ko Mitra Banavai॥

Sahastra Pustaka Jo Dana Karai।Sab Sukha Bhoga Padartha Pai॥

Prana Tyaga Kara Swarga Mein Jai।Manasa Parivara Kubera Kirti Gai॥

॥ Doha ॥

Shiva Bhakton Mein Agrani,Shri Yaksharaja Kubera।

Hridaya Mein Gyana Prakasha Bhara,Kara Do Dura Andhera॥

Kara Do Dura Andhera Aba,Jara Karo Na Dera।

Sharana Pada Hun Apaki,Daya Ki Drishti Phera॥

॥ Iti Shree Kubera Chalisa Ends ॥

Leave a Reply