भगवान सुना गया है संसार की ज़ुबानी

प्रभु प्राण है जगत के
सब जीव उनके प्राणी

भगवान सुना गया है
संसार की ज़ुबानी

है श्याम घन सलोना
आकाश उसकी अलके

सोया हुआ है फिर भी
दोनो खुली है पलके

भीतर है बनके धड़कन
भीतर है बनके धड़कन
बाहर है बन के वाणी

भगवान सुना गया है
संसार की ज़ुबानी

आँखो के सामने वो
छाया प्रकाश बन कर
वह राम रहा है सब में
जीवन की आस बन कर

पलके है जिनका आसान
पलके है जिनका आसान
ये दिल है राजधानी

भगवान सुना गया है
संसार की ज़ुबानी

दो अक्षरो में रही
कितनी भारी है शक्ति
बस राम हो आधार पेर
इतनी ही तो भक्ति
है मुक्ति की औषधि
कहते है संत ज्ञानी

भगवान सुना गया है
संसार की ज़ुबानी

प्रभु प्राण है जगत के
सब जीव उनके प्राणी

भगवान सुना गया है
संसार की ज़ुबानी
प्रभु प्राण है जगत के
सब जीव उनके प्राणी

Bhagawan Suna Gaya Hai
Sansar Ki Jubani

Prabhu Pran Hai Jagat Ke
Sab Jeev Unke Prani

Bhagawan Suna Gaya Hai
Sansar Ki Jubani

Hai Shyam Ghan Salona
Aakash Uski Alke

Soya Hua Hai Phir Bhi
Dono Khuli Hai Palke

Bheetar Hai Banke Dhadkan
Bheetar Hai Banke Dhadkan
Bahar Hai Ban Ke Vani

Bhagawan Suna Gaya Hai
Sansar Ki Jubani

Ankho Ke Samne Vo
Chhaya Prakash Ban Kar
Vah Ram Raha Hai Sab Mein
Jeevan Ki Aash Ban Kar

Palke Hai Jinka Aasan
Palke Hai Jinka Aasan
Ye Dil Hai Rajdhani

Bhagawan Suna Gaya Hai
Sansar Ki Jubani

Do Aksharo Mein Rahi
Kitni Bhari Hai Shakti
Bus Ram Ho Adhar Per
Itni Hi To Bhakti
Hai Mukti Ki Aushadhi
Kahte Hai Sant Gyani

Bhagawan Suna Gaya Hai
Sansar Ki Jubani

Prabhu Pran Hai Jagat Ke
Sab Jeev Unke Prani

Bhagawan Suna Gaya Hai
Sansar Ki Jubani

Leave a Reply