भजन बिना तन राख की ढेर है जीवन रैन अँधेरी

भजन बिना तन राख की ढेर है
जीवन रैन अँधेरी
भजन बिना तन राख की ढेर है
जीवन रैन अँधेरी

क्यों मुरख मन भटक रहा है
लोभ मोह में अटक रहा है
भूल रहा भागवत की महिमा
मति मारी है तेरी हाय ..
जीवन रैन अँधेरी
भजन बिना तन राख की ढेर है
जीवन रैन अँधेरी

नाम मिलाता हरी से प्यारे
ताम मिटाता सब अंधियारे
मौत को भी हरी भजन मिटाता
है चरनन की चेली
जीवन रैन अँधेरी
भजन बिना तन राख की ढेर है
जीवन रैन अँधेरी

रोम रोम में राम रमा है
राम नाम पर जगत थमा है
राम भजन करले मेरे भाई
बात मानले मेरी
जीवन रैन अँधेरी
भजन बिना तन राख की ढेर है
जीवन रैन अँधेरी

Bhajan Bina Tan Rakh Ki Dheri Hai Lyrics In English

Bhajan Bina Tan Rakh Ki Dheri Hai
Jeevan Rain Mere Re

Kyo Moorakh Man Bhatak Raha Hai
Lobh Moh Mein Atak Raha Hai

Bhoole Raha Jagat Ki Mahima
Mati Maari Hai Teri
Jeevan Rain Mere Re

Bhajan Bina Tan Rakh Ki Dheri Hai
Jeevan Rain Mere Re

Naam Mila To Hari Se Pyare
Naam Mitata Sab Adhiyaare

Maut Ko Bhi Hari Bhajan Mitata
Hai Charan Ki Cheri
Jeevan Rain Mere Re

Bhajan Bina Tan Rakh Ki Dheri Hai
Jeevan Rain Mere Re

Rom Rom Mein Ram Rama Hai
Ram Naam Par Jagat Thama Hai

Ram Bhajan Karle Re Mere Bhai
Baat Maanle Re Meri
Jeevan Rain Mere Re

Bhajan Bina Tan Rakh Ki Dheri Hai
Jeevan Rain Mere Re

Leave a Reply