भाई रे आशीष तेरे साथ है

करू कामना ये ही भाई दूज में मैं भी
तेरी लम्बी उम्र हो पाए न गम ना कभी
भाई रे आशीष तेरे साथ है
जीवन में डरने की क्या बात है

भाई रे आशीष तेरे साथ है
जीवन में डरने की क्या बात है

जीवन में हो पूरा तेरा हर एक सपना
ता उम्र ये रिश्ता अटूट रहे अपना
जब हो परेशानी मुझे याद तुम करना
कभी दिल में कोई दर्द तुम छुपा नहीं रखना
कभी मुझको तेरी हार स्वीकार नहीं होगी
जो पाए तेरी ये दुआ कभी हार नहीं होगी

भाई रे आशीष तेरे साथ है
जीवन में डरने की क्या बात है

विदा लेकर बाबुल से जाओगी एक दिन दूर
कैसे भुलाउंगी बीते जो पल संग में
बांध के रहेंगे हम सदा स्नेह में
ये भाई बहिन का प्यार सबसे निराला है
कभी तोड़े से नहीं टूटने वाला है
बहना रे जब तक मेरा साथ है
जीवन में डरने की क्या बात है

करू कामना ये ही भाई दूज में मैं भी
तेरी लम्बी उम्र हो पाए न गम ना कभी
भाई रे आशीष तेरे साथ है
जीवन में डरने की क्या बात है

भाई रे आशीष तेरे साथ है
जीवन में डरने की क्या बात है

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply