भीड़ आदमी का है आदमी अकेला है

भीड़ आदमी का है
आदमी अकेला है।।

कौन किसका साथी है
जाना तो अकेला है।।

भीड़ आदमी का है
आदमी अकेला है।।

पास माल जबतक है
हाथ सब मिलाएँगे।।

देखा हाथ खाली है
फिर नज़र ना आएँगे।।

झूठे रिश्ते नाते है
व्यर्थ का झमेला है।।

कौन किसका साथी है
जाना तो अकेला है।।

भीड़ आदमी का है
आदमी अकेला है।।

आज का गुरु चेला
दोनो जटाधरी है।।

जिसके पास धन जितना
उतना गुरु भारी है।।

छत्र लगा चाँदी का
क्या विचित्रा खेला है।।

कौन किसका साथी है
जाना तो अकेला है।।

भीड़ आदमी का है
आदमी अकेला है।।

मान पवित्र था मेरा
जब जहा में आए थे
धर्मा कर्मा कुछ ना था
अपने ना पराए थे।।

हम बेहोश हो गये
होश जब संभाला है।।

कौन किसका साथी है
जाना तो अकेला है।।

भीड़ आदमी का है
आदमी अकेला है।।

Bheed Aadmi Ka Hai
Aadmi Akela Hai

Bheed Aadmi Ka Hai
Aadmi Akela Hai

Kaun Kiska Sathi Hai
Jaana To Akela Hai

Bheed Aadmi Ka Hai
Aadmi Akela Hai

Pass Maal Jabtak Hai
Hath Sab Milayenge

Dekha Hath Khaali Hai
Fir Nazar Naa Aayenge

Jhoothe Rishte Naate Hai
Vyarth Ka Jhamela Hai

Kaun Kiska Sathi Hai
Jaana To Akela Hai

Bheed Aadmi Ka Hai
Aadmi Akela Hai

Aaj Ka Guru Chela
Dono Jata Dhari Hai

Jiske Pass Dhan Jitna
Utna Guru Bhari Hai

Chhatra Laga Chandi Ka
Kya Vichitra Khela Hai

Kaun Kiska Sathi Hai
Jaana To Akela Hai

Bheed Aadmi Ka Hai
Aadmi Akela Hai

Man Pavitra Tha Mera
Jab Jaha Mein Aaye The
Dharma Karma Kuchh Naa Tha
Apne Naa Paraye The

Hum Behosh Ho Gaye
Hosh Jab Sambhala Hai

Kaun Kiska Sathi Hai
Jaana To Akela Hai

Bheed Aadmi Ka Hai
Aadmi Akela Hai

Leave a Reply