मझधार में कश्ती है और राह अनजानी है

मझधार में कश्ती है और राह अनजानी है,
सुन बांके मुरली वाले मेरी नाव पुरानी है,
मझधार मे कश्ती है और राह अनजानी है।।

तेरी बांकी अदा चितवन मेरे मन में समाई है,
रग रग में सांवरिया मदहोशी छाई है,
वृंदावन वास मिले चाहत ये पुरानी है,
सुन बांके मुरली वाले मेरी नाव पुरानी है,
मझधार मे कश्ती है और राह अनजानी है।।

ये जग अंधियारा है तू जग उजियारा है,
बदकिस्मत बेबस का बस तू ही सहारा है,
अपने ही नहीं अपने दो दिन जिंदगानी है,
सुन बांके मुरली वाले मेरी नाव पुरानी है,
मझधार मे कश्ती है और राह अनजानी है।।

दर्शन मतवाले है तेरे चाहने वाले है,
जिस हाल में तू रखें हम रहने वाले है,
तू खुश है जहां खुश है उल्फत दीवानी है,
सुन बांके मुरली वाले मेरी नाव पुरानी है,
मझधार मे कश्ती है और राह अनजानी है।।

दुनिया के कण कण में तेरा जलवा नुमाई है,
जिस तरफ नजर डालूं तेरी सूरत भायी है,
चाहत है यही मन की तुझे प्रीत निभानी है,
सुन बांके मुरली वाले मेरी नाव पुरानी है,
मझधार मे कश्ती है और राह अनजानी है।।

मझधार में कश्ती है और राह अनजानी है,
सुन बांके मुरली वाले मेरी नाव पुरानी है,
मझधार मे कश्ती है और राह अनजानी है।।

Majhdhar Mein Kashti Hai
Aur Raah Anjani Hai
Sun Banke Murali Wale
Meri Nav Purani Hai
Majhdhar Me Kashti Hai
Aur Raah Anjani Hai

Teri Banki Ada Chitvan
Mere Man Mein Samai Hai
Rag Rag Mein Sanvariya
Madahoshi Chhai Hai
Vrindavan Vaas Mile
Chahat Ye Purani Hai
Sun Banke Murali Wale
Meri Nav Purani Hai
Majhdhar Me Kashti Hai
Aur Raah Anjani Hai

Ye Jag Andhiyara Hai
Tu Jag Ujiyara Hai
Badakismat Bebas Ka
Bas Tu Hi Sahara Hai
Apane Hi Nahin Apane
Do Din Jindagani Hai
Sun Banke Murali Wale
Meri Nav Purani Hai
Majhdhar Me Kashti Hai
Aur Raah Anjani Hai

Darshan MataWale Hai
Tere Chahane Wale Hai
Jis Hal Mein Tu Rakhen
Ham Raahane Wale Hai
Tu Khush Hai Jahan Khush Hai
Ulphat Divani Hai
Sun Banke Murali Wale
Meri Nav Purani Hai
Majhdhar Me Kashti Hai
Aur Raah Anjani Hai

Duniya Ke Kan Kan Mein
Tera Jalava Numai Hai
Jis Taraph Najar Dalun
Teri Surat Bhayi Hai
Chahat Hai Yahi Man Ki
Tujhe Prit Nibhani Hai
Sun Banke Murali Wale
Meri Nav Purani Hai
Majhdhar Me Kashti Hai
Aur Raah Anjani Hai

Majhdhar Mein Kashti Hai
Aur Raah Anjani Hai
Sun Banke Murali Wale
Meri Nav Purani Hai
Majhdhar Me Kashti Hai
Aur Raah Anjani Hai

Leave a Reply