मन का आँगन महकने लगा है

मन का आँगन महकने लगा है,
साथ गुरुवर का जबसे मिला है,

रौशनी मन की बतला रही है,
की अंधेरों ने कितना छला है,

मन का आंगन महकने लगा है,
साथ गुरुवर का जबसे मिला है

है यहाँ तन के रिश्ते सभी से,
माँ पिता बंधू भाई सभी से,
माँ पिता बंधू भाई सभी से,

आत्मा का है परमात्मा गुरु,
जिससे जीवन का ये सिलसिला है,

मन का आंगन महकने लगा है,
साथ गुरुवर का जबसे मिला है

जबसे गुरु की शरण आ गए है,
खुशियों का चमन पा गए है,

साथ गुरुवर का जग में निराला,
जिंदगी से ना शिकवा गिला है,
जिंदगी से ना शिकवा गिला है,

मन का आंगन महकने लगा है,
साथ गुरुवर का जबसे मिला है

अब तो गुरुवर के हाथों है जीवन,
दे दिया मैंने अपना ये तन मन,

जबसे गुरुवर के हम हो गए है,
मन में शांति का एक फुल खिला है,

मन का आंगन महकने लगा है,
साथ गुरुवर का जबसे मिला है

मन का आँगन महकने लगा है,
साथ गुरुवर का जबसे मिला है,

रौशनी मन की बतला रही है,
की अंधेरों ने कितना छला है,

मन का आंगन महकने लगा है,
साथ गुरुवर का जबसे मिला है

Man Ka Aangan Mahakne Laga Hai
Sath Guruvar Ka Jabse Mila Hai
Raushani Man Ki Batla Rahi Hai
Ki Andheron Ne Kitna Chhala Hai
Man Ka Aangan Mahakne Laga Hai
Sath Guruvar Ka Jabse Mila Hai

Hai Yahan Tan Ke Rishte Sabhi Se
Man Pita Bandhu Bhai Sabhi Se
Atma Ka Hai Paramatma Guru
Jisse Jivan Ka Ye Silsila Hai
Man Ka Aangan Mahakne Laga Hai
Sath Guruvar Ka Jabse Mila Hai

Jabse Guru Ki Sharan Aa Gae Hai
Khushiyon Ka Chaman Pa Gae Hai
Sath Guruvar Ka Jag Mein Nirala
Jindagi Se Na Shikava Gila Hai
Man Ka Angan Mahakne Laga Hai
Sath Guruvar Ka Jabse Mila Hai

Ab To Guruvar Ke Hathon Hai Jivan
De Diya Mainne Apna Ye Tan Man
Jabse Guruvar Ke Ham Ho Gae Hai
Man Mein Shanti Ka Ek Phul Khila Hai
Man Ka Aangan Mahakne Laga Hai
Sath Guruvar Ka Jabse Mila Hai

Man Ka Aangan Mahakne Laga Hai
Sath Guruvar Ka Jabse Mila Hai
Raushani Man Ki Batla Rahi Hai
Ki Andheron Ne Kitna Chhala Hai
Man Ka Angan Mahakne Laga Hai
Sath Guruvar Ka Jabse Mila Hai

Leave a Reply