मन के मंदिर में प्रभु को बैठाना

मन के मंदिर में प्रभु को बैठाना
बात हर एक के बस की नहीं है
खेलना पड़ता है जिंदगी से
आशिकी इतनी सस्ती नहीं है।।

प्रेम मीरा ने मोहन से डाला
उसको पीना पड़ा विष का प्याला
जब तलक ममता जब तलक ममता
जब तलक ममता है ज़िन्दगी से
उसकी रहमत बरसती नहीं है
मन के मंदिर में प्रभु को बैठाना
बात हर एक के बस की नहीं है।।

तन पे संकट पड़े मन ये डोले
लिपटे खम्बे से प्रह्लाद बोले
पतितपावन पतितपावन
पतितपावन प्रभु के बराबर
कोई दुनियाँ में हस्ती नहीं है
मन के मंदिर में प्रभु को बैठाना
बात हर एक के बस की नहीं है।।

संत कहते हैं नागिन है माया
इसने सारा जगत काट खाया
श्याम का नाम श्याम का नाम
श्याम का नाम है जिसके मन में
उसको नागिन ये डसती नहीं है
मन के मंदिर में प्रभु को बैठाना
बात हर एक के बस की नहीं है।।

Man Ke Mandir Mein Prabhu Ko Basana
Baat Har Ek Ke Bas Ki Nahin Hai
Khelna Padta Hai Jindagi Se
Bhakti Itni Bhi Sasti Nahin Hai
Man Ke Mandir Mein Prabhu Ko Basana
Baat Har Ek Ke Bas Ki Nahin Hai

Prem Meera Ne Mohan Se Dala
Usko Peena Pada Vish Ka Pyala
Jab Talak Mamta Hai Zindagi Se
Uski Rahmat Barasti Nahin Hai
Man Ke Mandir Mein Prabhu Ko Basana
Baat Har Ek Ke Bas Ki Nahin Hai

Tan Pe Sankat Pade Man Ye Dole
Lipte Khambe Se Prahalad Bole
Patit Pavan Prabhu Ke Barabar
Koi Duniya Mein Hasti Nahin Hai
Man Ke Mandir Mein Prabhu Ko Basana
Baat Har Ek Ke Bas Ki Nahin Hai

Sant Kehte Hain Nagin Hai Maya
Jisne Sara Jagat Kat Khaya
Krishna Ka Naam Hai Jiske Man Mein
Usko Nagin Ye Dasti Nahin Hai
Man Ke Mandir Mein Prabhu Ko Basana
Baat Har Ek Ke Bas Ki Nahin Hai

Man Ke Mandir Mein Prabhu Ko Basana
Bat Har Ek Ke Bas Ki Nahin Hai
Khelana Padata Hai Jindagi Se
Bhakti Itani Bhi Sasti Nahin Hai
Man Ke Mandir Mein Prabhu Ko Basana
Baat Har Ek Ke Bas Ki Nahin Hai

Leave a Reply