मारे मत मइया वचन भरवायले

मारे मत मइया, वचन भरवायले
वचन भरवाय लै, सौगन्ध खवायले।।

गंगा की खवाय लै, चाहे जमुना की खवायले
क्षीर सागर में मइया ठाड़ो करवाय लै
मारे मत मइया, वचन भरवाय लै।।

गइया की खवाय लै, चाहे बछड़ा की खवायले
नन्द बाबा के आगे ठाड़ो करवायलै
मारे मत मइया, वचन भरवायलै।।

गोपिन की खवाय लै, चाहे ग्वालन की खवायले
दाऊ भइया के आगे कान पकरायलै
मारे मत मइया, वचन भरवायलै।।

बंसी की खवाय लै, चाहे कामर की खवायले
मेरे अपने सिर पे हाथ धर के कहवायलै
मारे मत मइया, वचन भरवायलै।।

Mare Mat Maiya Vachan Bharwayele

Mare Mat Maiya Vachan Bharwayele
Sau Ganga Khawayele
Chahe Jamuna Ki Khawayele

Chheer Sagar Mein Chahe Khado Karwayele
Mare Mat Maiya Vachan Bharwale

Sau Dhan Sukh Ki Khawayele
Chahe Mann Sukh Ki Khawayele

Aur Dau Bhaiya Ki Chahe Kasam Khawayele
Mare Mat Maiya Vachan Bharwale

Leave a Reply