मुझे अपनी शरण में ले लो राम ले लो राम

मुझे अपनी शरण में ले लो राम ले लो राम
मुझे अपनी शरण में ले लो राम
लोचन मन में जगह ना हो तो
जुगल चरण में ले लो राम ले लो राम
मुझे अपनी शरण में ले लो राम

जीवन देके जाल बिछाया रच के माया नाच नचाया
चिंता मेरी तभी मिटेगी जब चिंतन में ले लो राम ले लो राम
मुझे अपनी शरण में ले लो राम…………

तुमने लाखों पापी तारे मेरी बारी बाज़ी हारे
मेरे पास न पुण्य की पूँजी पद पूजन में ले लो राम ले लो राम
मुझे अपनी शरण में ले लो राम…………

घर घर अटकूं दर दर भटकूं कहाँ कहाँ अपना सर पटकूं
इस जीवन में मिलो न तुम तो राम हे राम मुझे मरण में ले लो राम ले लो राम
मुझे अपनी शरण में ले लो राम………..

सिंगर – बाबा श्री चित्र विचित्र जी महाराज

Ram Bhajan Lyrics

Leave a Reply