मेरी चिठ्ठी तुम्हारे नाम मेरे राम मेरे राम

मेरी चिठ्ठी तुम्हारे नाम मेरे राम मेरे राम
मेरी अर्जी तुम्हारे नाम मेरे राम मेरे राम
इस चिठ्ठी में सब से पेहले लिखता तुम को राम राम राम
मेरे राम जी से राम राम कहियो कहियो जी हनुमान
मेरी चिठ्ठी तुम्हारे नाम मेरे राम मेरे राम

ऐसा वर दो मुझे राम का भजन सदा मैं किया करू,
हर मंगल को नियम पूर्वक दर्श तुम्हारे किया करू ,
दास जान के शरण में लीजियो सुमिरन कर के राम राम राम,
मेरे राम जी से राम राम कहियो कहियो जी हनुमान

एसी शक्ति दो जिस से ध्यान तुम्हारा किया करू,
सिया राम और लखन लाल के दर्शन करने जिया करू
दूर करो सब संकट मेरे गुण गाये सुबहो शाम शाम
मेरे राम जी से राम राम कहियो कहियो जी हनुमान

नैया के हो तुम ही खैवैयाँ नैया पार लगा देना
जब जब भीड़ पड़े भगतो पर किरपा की घंटी बजा देना
हम को है बस तेरा सहारा बुलालो अपने धाम
मेरे राम जी से राम राम कहियो कहियो जी हनुमान

Meri Chiththi Tumhare Naam Mere Ram Mere Ram
Meri Arji Tumhare Naam Mere Ram Mere Ram
Is Chiththi Mein Sab Se Pehale Likhata Tum Ko Ram Ram Ram
Mere Ram Ji Se Ram Ram Kahiyo Kahiyo Ji Hanuman
Meri Chiththi Tumhare Naam Mere Ram Mere Ram

Aisa Var Do Mujhe Ram Ka Bhajan Sada Main Kiya Karu
Har Mangal Ko Niyam Purvak Darsh Tumhare Kiya Karu
Das Jan Ke Sharan Mein Lijiyo Sumiran Kar Ke Ram Ram Ram
Mere Ram Ji Se Ram Ram Kahiyo Kahiyo Ji Hanuman

Esi Shakti Do Jis Se Dhyan Tumhara Kiya Karu
Siya Ram Aur Lakhan Lal Ke Darshan Karane Jiya Karu
Dur Karo Sab Sankat Mere Gun Gaye Subaho Sham Sham
Mere Ram Ji Se Ram Ram Kahiyo Kahiyo Ji Hanuman

Naiya Ke Ho Tum Hi Khaivaiyan Naiya Par Laga Dena
Jab Jab Bhid Pade Bhagato Par Kirapa Ki Ghanti Baja Dena
Ham Ko Hai Bas Tera Sahara Bulalo Apane Dham
Mere Ram Ji Se Ram Ram Kahiyo Kahiyo Ji Hanuman

Leave a Reply