मेरी बांसुरी का देदे सुर ताल

तेरे बिना सूनी सूनी दिल की नगरिया,
अब तो बजती नहीं है होठो से बंसुरिया,
तू मेरी बांसुरी के दे दे सुर ताल,
कर दूंगा बवाल राधिके,
मेरी बांसुरी का देदे सुर ताल,
वरना कर दूंगा बवाल राधिके।।

तू तो मेरी मोरनी है मैं तो तेरा मोर,
चित को चुराने वाला मैं ही चित चोर हूँ,
गोर काले का मन से निकाल भेद,
वरना कर दूंगा बवाल राधिके।।

तुमसे दूर रहना मेरे दिल को गवारा नहीं,
मुझको शिव एक तेरे कोई और प्यारा नहीं,
जो तूने की मेरे बातो की टाल,
तो मैं करदूंगा बवाल राधिके,
मेरी बांसुरी का देदे सुर ताल,
वरना कर दूंगा बवाल राधिके।।

कहता अनाड़ी मैंने तुझसे किया प्यार,
तुझसे मिलने को दिल रहता बेकरार,
बेकार दिल को जल्दी ले संभल,
मेरी बांसुरी का देदे सुर ताल,
वरना कर दूंगा बवाल राधिके।।

तेरे बिना सूनी सूनी दिल की नगरिया,
अब तो बजती नहीं है होठो से बंसुरिया,
तू मेरी बांसुरी के दे दे सुर ताल,
कर दूंगा बवाल राधिके,
मेरी बांसुरी का देदे सुर ताल,
वरना कर दूंगा बवाल राधिके।।

Leave a Reply