मेरी विनती सुनो हनुमान शरण तेरी आया हूँ

मेरी विनती सुनो हनुमान शरण तेरी आया हूँ,
आया हूँ जी आया हूँ शरण तेरी मैं आया हूँ,
पत रखना दया निधान शरण तेरी आया हूँ,
मेरी विनती सुनो हनुमान शरण तेरी आया हूँ।।

तुम बल बुद्धि के दाता हो तुम मेरे भाग्य विधाता हो,
तुम सकल गुणों की ख़ान शरण तेरी आया हूँ,
मेरी विनती सुनो हनुमान शरण तेरी आया हूँ।।

तुम संकट मोचनकारी हो बाबा शिव शंकर अवतारी हो,
तुम सा ना कोई बलवान शरण तेरी आया हूँ,
मेरी विनती सुनो हनुमान शरण तेरी आया हूँ।।

तेरी हर घर में होती पूजा कोई और नहीं तुमसे दूजा,
रखते हो सबका मान शरण तेरी आया हूँ,
मेरी विनती सुनो हनुमान शरण तेरी आया हूँ।।

बस मुझको भरोसा तेरा है बाबा कोई नहीं यहां मेरा है,
तेरा भीमसेन नादान शरण तेरी आया हूँ,
मेरी विनती सुनो हनुमान शरण तेरी आया हूँ।।

मेरी विनती सुनो हनुमान शरण तेरी आया हूं,
आया हूँ जी आया हूँ शरण तेरी मैं आया हूँ,
पत रखना दया निधान शरण तेरी आया हूँ,
मेरी विनती सुनो हनुमान शरण तेरी आया हूँ।।

Leave a Reply