मेरी श्याम से प्रीत ना टूटे

बिछड़े चाहे सारी दुनिया श्याम ना रूठे
मेरी श्याम से प्रीत ना टूटे
बिछड़े चाहे सारी दुनिया श्याम ना रूठे।।

श्याम प्रीत के कारन मैंने छोड़ी दुनिया सारी
बैरी बन गए रिश्ते नाते
मेरी लगी श्याम से यारी
अब चाहे जो बोले मीत ना छूटे
बिछड़े चाहे सारी दुनिया श्याम ना रूठे
मेरी श्याम से प्रीत ना टूटे।।

दुनिया के एक एक ताने ने मुझे तेरी और बढ़ाया
मतलब के जग के रिश्तो से
श्याम तेरी गलियों में डोलू प्रीत ना छूटे
मेरी श्याम से प्रीत ना टूटे
बिछड़े चाहे सारी दुनिया श्याम ना रूठे।।

Leave a Reply