मेरे कान्हा साथ निभाना

और नही कुछ तुम से केहना सेवा में तेरी मुझको रहना
मेरे कान्हा मेरे कान्हा मेरे कान्हा साथ निभाना।।

तू दाता मैं तेरी पुजारन तेरे दर की मैं हु भिखारन,
बन ना चाहू मीरा से जोगन पूरी करदो मेरी तमना,
मेरे कान्हा मेरे कान्हा मेरे कान्हा साथ निभाना।।

हारे का हो तुम तो सहारा तुम से चलता सब का गुजारा
दिल से दिल ने तुम को पुकारा तुम से मेरी दिन और रैना,
मेरे कान्हा साथ निभाना।।

कुछ देखू प्रभु तूम को देखू छोड़ के मैं सब तुम को देखू
जब देखू तब तुमको देखू और न देखे कान्हा कुछ ये नैना
मेरे कान्हा साथ निभाना।।

Leave a Reply