मेरे घर आ जाओ राम जी लिरिक्स

मैंने घी के दीप जलाए राहो में है नैन बिछाये,
पूजा करती सुबह शाम जी मेरे घर आजो राम जी

राम जी घर में आये स्वर्ग सागर हो जाए
और न कुछ भी चाहे हो रामा हो
मैंने गंगा जल मंगवाया और है घर को खूब सजाया,
मन में हर पल तेरा नाम जी,
मेरे घर आ जाओ राम जी

मैं तो चरणों की दासी इक तेरे दर्श की प्यासी
तुम बिन रहे उदासी
मुझको समजो न बेगाना सीता मैया को भी लाना
संग में लाना हनुमान जी
मेरे घर आ जाओ राम जी

तुम्हारे पैर पखारू तुम्हे मैं मन में धारु
नही वचनों से हारू
कवी सिंह करती है गुणगान सारे बोलो जय श्री राम
अवध में बन गया है धाम जी
मेरे घर आ जाओ राम जी

mainne ghee ke deep jalae raaho mein nain bichhaaye,
pooja karatee hoon shaam jee mere ghar aajo raam jee

raam jee ghar mein aaye svarg saagar ho
aur na kuchh bhee chaahe raam bano
mainne ganga jal mangavaaya aur hai ghar ko khoob khaana,
man mein har pal tera naam jee,
mere ghar aa jao raam jee

main to charanon kee daasee ik aapakee aur kee pyaasee
tum bin rahe upasee
mujhako samajo na begaana seeta maiya ko bhee laana
hanumaan jee ko laana
mere ghar aa jao raam jee

tumhaare pair pakhaaroo tume main man mein dhaaru
nahin vachanon se haaroo
kavee sinh karatee hai gunagaan saare bolo jay shree raam
avadh mein ban gaya hai dhaam jee
mere ghar aa jao raam jee

Leave a Reply