मेहंदीपुर के बालाजी हम दर तेरे आये हैं

मेहंदीपुर के बालाजी हम दर तेरे आये हैं
मुझे रख लो सेवादार ओ बाबा आस लगाए हैं
मेहंदीपुर के बालाजी …………

तेरे चरणों की छाया दूर कना करना मुझको
जनम जन्म तेरी सेवा करूँ में ऐसा वर दो मुझको
खुशियां मिलती इस दर से हमें झोली फैलाएं हैं
मुझे रख लो सेवादार ओ बाबा आस लगाए हैं

हर पल तेरा नाम पुकारूँ निस दिन तुम्हे ध्याऊँ
तेरा सेवा काम न दूजा तेरे भजन मैं गाऊं
राम भक्त अंजनी के लाला अर्ज़ी ये  लाये हैं
मुझे रख लो सेवादार ओ बाबा आस लगाए हैं

धन्य हो गए बालाजी हम पा कर प्यार तुम्हारा
सर पर हाथ सदा ही रखना ये उपकार तुम्हारा
शर्मा लिखता भजन तुम्हारे सर को झुकाएं हैं
मुझे रख लो सेवादार ओ बाबा आस लगाए हैं

Mehandipur Ke Balaji Ham Dar Tere Aaye Hain
Mujhe Rakh Lo Sevadar O Baba As Lagae Hain
Mehandipur Ke Balaji

Tere Charano Ki Chhaya Door Kana Karana Mujhko
Janam Janm Teri Seva Karoon Mein Aisa Var Do Mujhko
Khushiyan Milati Is Dar Se Hamen Jholi Phailaen Hain
Mujhe Rakh Lo Sevadaar O Baba As Lagae Hain

Har Pal Tera Naam Pukaroon Nis Din Tumhe Dhyau
Tera Seva Kam Na Dooja Tere Bhajan Main Gaoon
Ram Bhakt Anjani Ke Lala Arzi Ye Laye Hain
Mujhe Rakh Lo Sevadar O Baba As Lagae Hain

Dhany Ho Gae Balaji Ham Pa Kar Pyar Tumhara
Sar Par Hath Sada Hi Rakhana Ye Upakar Tumhara
Sharma Likhta Bhajan Tumhare Sar Ko Jhukae Hain
Mujhe Rakh Lo Sevadaar O Baba As Lagae Hain

Leave a Reply